Breaking News

33 हजार करोड़ के निवेष से विकास की गति बढ़ेगी

 

आबादी के हिसाब से प्रदेष निवेष के लिए सबसे बड़ा बाजार

निवेषकों को सभी सहूलियतें कराई जाएंगी उपलब्ध

लखनऊ। यूपी में विकास की रफ्तार को तेजी देने के लिए मुम्बई में आयोजित इन्वेस्टर्स मीट में लगभग 33 हजार करोड़ के एमओयू हस्ताक्षरित किए गए। इससे गदगद मुख्यमंत्री अखिलेष यादव ने कहा कि विकास के मामले में प्रदेष काफी आगे है और आबादी के हिसाब से निवेष के लिए सबसे बड़ा बाजार। तीन साल में यूपी की विकास दर में बढ़ोत्तरी हुयी है और रोजगार बढ़ने के साथ प्रति व्यक्ति आय भी बढ़ी है।

देष की वित्तीय राजधानी में मुख्यमंत्री श्री यादव ने निवेषकों को संबोधित करते हुए कहा कि प्रदेष में उत्पादन को बढ़ावा देने से रोजगार बढ़ेगा। उन्होने उत्तर प्रदेश में निवेश को प्रोत्साहित करने के लिए नोएडा, ग्रेटर नोएडा और लखनऊ सहित प्रदेश के अन्य क्षेत्रों में जहां कहीं भी निवेशकर्ता अपने प्लान्ट स्थापित करना चाहते हैं उन्हें हर प्रकार की सुविधायें उपलब्ध करायी जायेंगी। प्रदेश के विकास पर चर्चा करते हुए उन्होंने कहा कि मेट्रो रेल परियोजना एक साथ लखनऊ सहित प्रदेश के अन्य 5 शहरों कानपुर, आगरा, वाराणसी, मेरठ एवं इलाहाबाद में काम करेगी जो इससे पहले शायद ही देश के किसी अन्य प्रदेश में हुआ हो। आगरा-लखनऊ एक्सप्रेस वे देश का पहला एक्सप्रेस वे होगा जो निर्धारित समय में पूरा होगा। इसके लिए बड़े पैमाने पर जमीनों का अधिग्रहण बिना किसी विवाद के किया गया। उन्होंने कहा कि जब मेक इन इंडिया बन रहा है तो मेक इन यूपी भी बनाना है। उद्यमियों को जो सुझाव हो वह आकर दें। प्रदेष सरकार ने सभी उद्योग घरानों की मदद की है और यह आगे भी जारी रहेगी। बड़े पैमाने पर निवेष के मसौदो पर हस्ताक्षर होने से प्रसन्न अखिलेष ने कहा कि आबादी के लिहाज से यूपी निवेष के लिए बड़ा बाजार है। देष का प्रधानमंत्री भी बिना यूपी के नहीं बन सकता। उन्होंने कहा कि लोग यूपी को कुछ और समझ लेते हैं, लेकिन हकीकत में यह कुछ और है। प्रदेष में निवेषकों को पूरी सहूलियत दी जा रही है। मुख्यमंत्री ने अधिकारियों की तारीफ करते हुए कहा कि वह निवेष के लिए बहुत मेहनत कर रहे हैं। मुख्य सचिव आलोक रंजन ने निवेषकों को सरकार के किए गए विकास कार्यों और अवस्थापन सुविधाओं के बारे में बताते हुए कहा कि उनकी सहूलियत के लिए राज्य में सिंगल विंडो सिस्टम लागू किया गया है। उनकी समस्याओं का एक ही जगह समाधान हो सके। उन्होंने कहा कि प्रदेष में औद्योगिक पूंजी निवेष को आकर्षित करने में सभी बैंकर्स का सहयोग जरूरी है। उन्होंने समाजवादी पेंषन योजना के तहत लगभग 1.40 करोड़ लाभार्थियों को दी जाने वाली धनराषि का हस्तांतरण लाभार्थियों के खातों में 24 घंटे के अंदर होने पर बैंकों को सराहा।

गांवों के विकास की प्रक्रिया में सीधे जुड़े बैंक

लखनऊ। मुख्यमंत्री अखिलेष यादव ने मुम्बई में बैंकों के अध्यक्षों, प्रबंध निदेषकों और मुख्य कार्यकारी अधिकारियों से भी निवेष को लेकर बात की और कहा कि बैंकों ने प्रदेष में 3252 शाखाएं स्थापित कर एक नया इतिहास रचा है। श्री यादव ने बैंकों से प्रदेश के गांवों के सर्वांगीण विकास का अनुरोध करते हुए कहा कि बैंक प्रदेश के गांवों को अधिक से अधिक संख्या में गोद लेकर उनके सर्वांगीण विकास की प्रक्रिया में सीधे तौर से जुड़ें और गरीब किसानों की आर्थिक व सामाजिक दशा सुधारने के राज्य सरकार के पुनीत प्रयासों में सहभागी बनेें।
उन्होंने मार्च, 2013 में 300 शाखायें एक दिन मंे खोले जाने का भी जिक्र किया और बैंकों से यह भी कहा कि इस वर्ष बैंक प्रदेश में कम से कम 1000 शाखायें खोले ताकि लोगों को आसानी से बैंकिंग सुविधायें प्राप्त हो सक। वित्त आयुक्त, राहुल भटनागर ने बैंकों की सराहना करते हुए कहा कि प्रदेश में ऋण एवं अग्रिमों की अपार सम्भावनाये हैं। बैंकों ने प्रदेश के लिए तैयार की गयी वार्षिक ऋण योजनाओं के अन्तर्गत कृषि, ल्रघु एवं मध्यम उद्योग तथा सेवा क्षेत्र मंे विगत तीन वर्षों के दौरान लगभग 291665 करोड़ के ऋण वितरित किये, जो एक बड़ी उपलब्धि है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *