Breaking News

प्रथम विश्‍व युद्ध खत्‍म होने के आज इतने वर्ष हुए पुरे

20वीं सदी की सबसे बड़ी घटनाओं में शुमार प्रथम विश्‍व युद्ध के खत्‍म होने के आज 100 वर्ष पूरे हो रहे हैं 1914 में प्रारम्भ हुआ प्रथम विश्‍व युद्ध 11 नवंबर, 1918 को समाप्‍त हुआ था अंग्रेजी राज के दौर में इंडियन ब्रिटिश सैनिकों ने उस युद्ध में अप्रतिम साहस का परिचय देते हुए संसार के कई मुल्‍कों में अपनी सेवाएं दी थीं इस कारण फ्रांस, ब्रिटेन समेत कई राष्ट्रों ने अपना आभार प्रकट करते हुए उनकी याद में कई युद्ध स्‍मारक बनाए हैं

Image result for प्रथम विश्‍व युद्ध के खत्‍म होने के आज इतने वर्ष हुए पुरे

इस कड़ी में उपराष्ट्रपति एम वेंकैया नायडू ने शनिवार को प्रथम विश्वयुद्ध में अपने प्राण न्यौछावर करने वाले हजारों इंडियन सैनिकों की याद में उत्तरी फ्रांस में हिंदुस्तान द्वारा निर्मित पहले युद्ध स्मारक का उद्घाटन किया इस दौरान उन्होंने विलर्स गुसलेन में इंडियन युद्ध स्मारक के उद्घाटन के मौके पर फ्रांसीसी सशस्त्र बलों के पूर्व सैनिकों  बच्चों के साथ भी वार्ता की

नायडू ने एक ट्वीट में कहा, ‘‘फ्रांस के विलर्स गुसलेन शहर में आज इंडियन सशस्त्र बलों के स्मारक का उद्घाटन कर बेहद खुश हूं यह उन हजारों इंडियन सैनिकों को महान सम्मान हैं जिनकी बहादुरी  समर्पण ने संसार भर में प्रशंसा बटोरी ’’

देश की स्वतंत्रता के बाद हिंदुस्तान द्वारा फ्रांस में निर्मित यह अपनी तरह का पहला स्मारक है   इस स्मारक के निर्माण की घोषणा विदेश मंत्री सुषमा स्वराज द्वारा जून 2018 में पेरिस के अपने पिछले दौर के दौरान की गई थी हिंदुस्तान प्रथम विश्वयुद्ध में सबसे अधिक सैनिक भेजने वाले राष्ट्रों में एक था

उल्‍लेखनीय है कि उपराष्ट्रपति एम वेंकैया नायडू प्रथम विश्व युद्ध की समाप्ति के शताब्दी समारोह में हिंदुस्तान का प्रतिनिधित्व करने के लिए शुक्रवार को तीन दिवसीय पेरिस यात्रा पर गए हैं विदेश मंत्रालय के अनुसार इस शताब्दी समारोह में 50 से अधिक राष्ट्रों के राष्ट्राध्यक्षों या शासनाध्यक्षों या उनके प्रतिनिधियों के भाग लेने की आसार है

रविवार को उपराष्ट्रपति आर्क डि ट्रायोम्फी में प्रथम विश्वयुद्ध समाप्ति के शताब्दी समारोह में भाग लेंगे उसकी अध्यक्षमता फ्रांसीसी राष्ट्रपति एमैनुएल मैक्रों करेंगे

भारतीय सैनिकों के सम्मान में ब्रिटेन में नयी प्रतिमा का अनावरण

इसी तरह इंग्लैण्ड में वेस्ट मिडलैंड्स एरिया के स्मेथविक शहर में प्रथम विश्व युद्ध के दौरान लड़ाई लड़ने वाले इंडियन सैनिकों के सम्मान में पिछले रविवार को एक नयी प्रतिमा का अनावरण किया गया गुरु नानक गुरुद्वारा स्मेथविक ने ‘लायंस ऑफ द ग्रेट वार’ नामक स्मारक बनवाया है जिसमें एक पगड़धारी सिख सैनिक नजर आ रहा है यह स्मारक ब्रिटेन के लिए विश्व युद्धों  अन्य संघर्षों में ब्रिटिश इंडियन सेना का भाग रहे सभी धर्मों के लाखों दक्षिण एशियाई सैनिकों के बलिदान के सम्मान में बनाया गया है

गुरु नानक गुरुद्वारा स्मेथविक के अध्यक्ष जतिंदर सिंह ने कहा, ‘‘हम स्मेथिवक हाई स्ट्रीट पर बलिदान देने वाले उन सभी बहादुर व्यक्तियों के सम्मान में यह स्मारक बनाकर बहुत ज्यादा गौरवान्वित महसूस कर रहे हैं जिन्होंने हजारों मीलों की दूरी तय कर एक ऐसे ऐसे राष्ट्र के लिए लड़ाई की जो उनका अपना राष्ट्र नहीं था ’’ स्मेथविक हाई स्ट्रीट पर प्रथम विश्व युद्ध की समाप्ति की 100वीं सालगिरह के मौका पर 10 फुट की कांस्य प्रतिमा का अनावरण किया गया प्रथम विश्व युद्ध को ग्रेट वार के नाम से भी जाना जाता है

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *