Breaking News

आज के हालात पर क्षुब्ध अखिलेश यादव को याद आया यह गाना

लखनऊ. उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री एवं समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव ने 60 दशक पुराना गाना ट्वीट किया है। अखिलेश यादव आज के इस अघोषित आपातकाल जैसी स्थिति और वर्तमान हालात से बड़े ही क्षुब्ध हैं। अखिलेश यादव ने इस गाने के सहारे देश के हालातों के दर्द को बयां किया है।

अखिलेश यादव ने ट्वीट कर लिखा की देश के हालात कितने बदल गए है, कहीं दंगा तो कई झगड़े जैसे हालात है। ऐसे में इंसान कितना बदल गया है। छह दशक पहले का ये गीत आज के ही हालातों पर लिखा लगता है। आज हर किसी को सोचना होगा, क्या इंसानियत को मारकर हम किसी तरक़्क़ी को तरक़्क़ी कह सकते हैं।

अखिलेश यादव ने वर्तमान हालात पर किया ट्वीट

अखिलेश यादव ने ट्वीट कर लिखा, “देख तेरे संसार की हालत।।।कितना बदल गया इंसान।।।आया समय बड़ा बेढंगा।।।कहीं पे झगड़ा, कहीं पे दंगा”। छह दशक पहले का ये गीत आज के ही हालातों पर लिखा लगता है। आज हर किसी को सोचना होगा, क्या इंसानियत को मारकर हम किसी तरक़्क़ी को तरक़्क़ी कह सकते हैं।

केरल बाढ़ पीड़ितों के लिए भी प्रकट किया दुख
वहीं, अखिलेश यादव ने केरल में बाढ़ पीड़ितों के लिए भी दुख प्रकट किया है। साथ ही अखिलेश ने केरल में जरूरतमंदों की मदद के लिए व्यक्तिगत दान देने की बात भी कही।

केरल में आई बारिश के बाद बाढ़ की भयावहता से जूझ रहे में लोगों की मदद के लिए अखिलेश यादव ने ट्वीट किया। अखिलेश यादव ने लिखा- मैं दिल से केरल के लोगों के पास हूं। मैंने और मेरी पत्नी ने केरल में जरूरतमंदों की मदद करने के लिए व्यक्तिगत तौर पर दान करने का फैसला किया है। अगर आप भी उनकी मदद कर सकते हैं, तो कृपया अपना योगदान जरूर दें। उन लोगों को याद रखें जो खो गए और केरलावासियों के लिए प्रार्थना करें जो अभी भी इस तबाही से लड़ रहे हैं।

गौरतलब है कि केरल में अभी तक 350 से ज़्यादा लोग अपनी जान गंवा चुके हैं। 6 लाख से ज़्यादा लोग राहत शिविरों में रह रहे हैं। राज्य के 14 में से 11 ज़िलों में रेड अलर्ट था, मगर अब हटा लिया गया है और औरेंज अलर्ट जारी कर दिया गया है। और सबसे चिंताजनक बात है कि मौसम विभाग ने अभी भी भारी बारिश की आशंका जताई है जिससे आने वाले वक्त में हालात और बिगड़ने के आसार हैं।

फोटो- फाइल।।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *