Breaking News

ऑस्ट्रेलिया के पूर्व धाकड़ सलामी बल्लेबाज मैथ्यू हेडन का आज है 48वां जन्मदिन

ऑस्ट्रेलिया के पूर्व धाकड़ सलामी बल्लेबाज मैथ्यू हेडन सोमवार को अपना 48वां जन्मदिन मना रहे हैं ऑस्ट्रेलिया का यह खब्बू बल्लेबाज एक समय संसार भर के तेज गेंदबाजों के लिए खौफ का पर्याय बन गया था हेडन को कभी भी कोई बल्लेबाज डरा नहीं सका इसका सबूत चौदह वर्ष के क्रिकेट करियर के दौरान हेडन ने ऑस्ट्रेलिया के लिए सफलतापूर्वक निभाई सलामी बल्लेबाजी की किरदार है

Image result for ऑस्ट्रेलिया के पूर्व धाकड़ सलामी बल्लेबाज मैथ्यू हेडन का आज है 48वां जन्मदिन

हेडन को पिछले वर्ष ऑस्ट्रेलियाई क्रिकेट हॉल ऑफ फेम में शामिल किया गया है हेडन को क्वींसलैंड में सर्फिंग के दौरान गंभीर चोट लगी है डन के गर्दन के नीचे फ्रेक्चर हुआ हैउनके लिगामेंट्स भी क्षतिग्रस्त हो गए हैं सिर में चोट आई है वह अपने बेटे जोश के साथ सर्फिंग के लिए गए थे हे़डन अब अपनी चोटों से बहुत ज्यादा उबर चुके हैं हे़डन हिंदुस्तानको बहुत ज्यादा पसंद करते हैं वे आईपीएल इस वर्ष कॉमेंट्री भी करते दिखे वे अब भी चेन्नई सुपर किंग्स के मेंटर हैं

उन्होंने टेस्ट  वनडे क्रिकेट में माइकल स्लेटर, मार्क टेलर, जस्टिन लेंगर, एडम गिलक्रिस्ट, मार्क वॉ, फिल जैक्स के साथ ऑस्ट्रेलियाई पारी की आरंभ की इनमें लंबे समय तक उनके जोड़ीदार लेंगर रहे हेडन-लेंगर की जोड़ी ने कई टेस्ट मैचों में ऑस्ट्रेलिया को बेहतरीन आरंभ देकर अपनी टीम की जीत की नींव रखीं

380 रनों की यादगार पारी
हेडन की सबसे ज्यादा खास पारी 2003 में पर्थ टेस्ट में हेडन ने जिम्बॉब्वे के विरूद्ध 380 रनों की है यह उस समय टेस्ट क्रिकेट की एक पारी में सबसे बड़ी पारी थी    यह रिकॉर्ड ज्यादा दिन तक हेडन के नाम नहीं रह सका ब्रायन लारा ने एक बार फिर इसे अपने नाम कर लिया, लेकिन हेडन की इस पारी की अच्छाई यह थी कि उन्होंने ये 380 रन 90 की स्ट्राइक रेट से बनाए थे

लंबे समय के बाद नियमित हो सके थे हेडन
हेडन ने अपने करियर का पहले टेस्ट भले ही मार्च 1994 में खेला हो, लेकिन ऑस्ट्रेलिया क्रिकेट टीम में नियमित खिलाड़ी बनने में बहुत ज्यादा समय लगा 21 मार्च 1997 को सेंचुरियन में दक्षिण अफ्रीका के विरूद्ध टेस्ट के बाद उन्हें तीन वर्ष तक टीम से बाहर रहना पड़ा इसके बाद उन्होंने कड़ी मेहनत की  तीन वर्ष दस दिनों के बाद न्यूजीलैंड के विरूद्ध 31 मार्च 2000 को हेमिल्टन टेस्ट से टीम में वापसी की इसके बाद वे अपने प्रदर्शन के आधार पर कभी टीम से बाहर नहीं रहे कुछ मौकों पर वे चोटिल होकर बैंच पर बैठे, लेकिन जल्द ही वापस भी आए हेडन की मौजूदगी से सालों-साल ऑस्ट्रेलियाई टीम मैनेजेमेंट को सलामी बल्लेबाजी को लेकर अलग से कोई योजना नहीं बनानी पड़ी

शानदार रिकॉर्ड है हेडन का
हेडन ने 103 टेस्ट मैचों में 30 शतक  29 अर्धशतक के साथ 50.73 की औसत से 8625 रन बनाए वहीं 161 वनडे मे हेडन ने 78.96 के स्ट्राइक रेट  43.80 के औसत से, दस शतक  36 अर्द्धशतकों की मदद से कुल 6133 रन बनाए आज भी हेडन को कई विशेषज्ञ ऑस्ट्रेलिया का सफलतम सलामी बल्लेबाज मानते हैं अपने अंतर्राष्ट्रीय करियर के अंतिम दिनों में हेडन भले ही बेहतरीन फॉर्म में न रहे हो, लेकिन उसके बाद ही हेडन ने आईपीएल में अपना सिक्का जमाया  2009 के आईपीएल में तो उन्होंने ऑरेंज कैप हासिल कर ली

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *