Thursday , April 22 2021
Breaking News

अब इलाहाबाद का नाम होगा प्रयागराज

 यूपी में मुगलसराय रेलवे स्‍टेशन का नाम पंडित दीनदयाल उपाध्‍याय के नाम पर रखे जाने के बाद अब  इस सिलसिले में गंगा-यमुना की संगम नगरी इलाहाबाद का नाम बदले जाने की चर्चा पर यूपी के CM योगी आदित्यनाथ ने शनिवार को बोला कि जल्द ही इलाहाबाद का नाम बदलकर प्रयागराज किए जाने का कोशिश चल रहा है उन्होंने कहा, “मुझे लगता है कि गवर्नर महोदय ने भी इस पर अपनी सहमति दी है जब हम प्रयाग की बात करते हैं तो जहां दो नदियों का संगम होता है, वह अपने आप में एक प्रयाग हो जाता है आपको उत्तराखंड में विष्णु प्रयाग, देव प्रयाग, रुद्र प्रयाग, देव प्रयाग, कर्ण प्रयाग देखने को मिलेंगे ”

Image result for अब इलाहाबाद का नाम होगा प्रयागराज

मुख्यमंत्री ने कहा, “हिमालय से निकलने वाली दो देव तुल्य पवित्र नदियां- गंगा  यमुना का संगम इस पावन धरती पर होता है तो स्वभाविक तौर पर यह सभी प्रयागों का राजा है, इसलिए यह प्रयागराज कहलाता है. हमने उनकी इस बात का समर्थन किया है  हमारा कोशिश होगा कि बहुत जल्द हम इस नगर का नाम प्रयागराज करें ”

इस मुहिम के साथ ही शहरों का नाम बदलने की चर्चा फिर से प्रारम्भ हो गई है शहरों के संदर्भ में देखा जाए तो सबसे ताजा मामला गुरुग्राम का है दो वर्ष पहले हरियाणा के इस शहर का नाम गुड़गांव से गुरुग्राम कर दिया गया आलोचकों का कहना है कि शहरों के नाम बदलने की यह कवायद संघ की उस सोच का हिस्‍सा है जिसके तहत स्‍थानों का नाम उनके अतीत  संस्‍कृति के आधार पर होना चाहिए इसीलिए संघ पहले से ही कई शहरों को उनके ऐतिहासिक नामों से ही संबोधित करता है आलोचक इसको ‘विदेशी’ असर के खात्‍मे  इंडियनइतिहास को नए सिरे से व्‍याख्‍यायित किए जाने के संदर्भ से भी जोड़कर देखते हैं

अहमदाबाद
इसी वर्ष जुलाई में भाजपा नेता सुब्रमण्‍यम स्‍वामी ने गुजरात की कर्णावती यूनिवर्सिटी में यूथ पार्लियामेंट 2018 के एक प्रोग्राम में शिरकत करते हुए कर इस मुद्दे को फिर से हवा दीअहमदाबाद का नाम कर्णावती रखने की मांग हिंदू राजा करण देव के नाम के आधार पर की जा रही है बोला जाता है कि 11वीं सदी में उन्‍होंने ही इस शहर की स्‍थापना की थी

औरंगाबाद
इसी तर्ज पर महाराष्‍ट्र के औरंगाबाद शहर का नाम शंभाजी नगर  हैदराबाद का नाम देवी भाग्‍यलक्ष्‍मी के आधार पर भाग्‍यनगर रखने की मांग हो रही है शंभाजी छत्रपति शिवाजी के ज्‍येष्‍ठ पुत्र थे मुगलों ने पकड़कर उनकी हत्‍या कर दी थी शिवसेना लंबे समय से औरंगाबाद का नाम बदलने की मांग कर रही है 1990 के दशक में जब महाराष्‍ट्र में शिवसेना-बीजेपी गवर्नमेंट थी, तब इसकी औपचारिक प्रक्रिया भी पूरी कर ली गई थी लेकिन बात उससे आगे नहीं बढ़ पाई 1996 में इसी गवर्नमेंट के दौरान बंबई (बांबे) का नाम स्‍थानीय मुंबा देवी के आधार पर मुंबई किया गया था

भोपाल से भोजपाल की मांग
2011 में मध्‍य प्रदेश की शिवराज सिंह चौहान गवर्नमेंट ने राज्‍य की राजधानी भोपाल का नाम बदलकर भोजपाल करने का आग्रह केंद्र से किया था दरअसल उस वर्ष राजा भोजपाल के सिंहासनारोहण के एक हजार वर्ष पूरा होने के मौका पर ऐसा किया किए जाने की मांग की गई थी लेकिन कांग्रेस पार्टी के नेतृत्‍व वाली तत्‍कालीन यूपीए गवर्नमेंट ने इसकी सहमति नहीं दी थी

बंगलौर बना बेंगलुरू
हालांकि भाजपा के नेतृत्‍व में एनडीए गवर्नमेंट जब 2014 में सत्‍ता में आई तो उसके तत्‍काल बाद बंगलौर का नाम बेंगलुरू करने की औपचारिक सहमति दी गई इसके साथ ही कर्नाटक के 11 शहरों के नाम भी बदले गए एनडीए गवर्नमेंट ने ही दिल्‍ली के औरंगजेब रोड का नाम बदलकर पूर्व राष्‍ट्रपति डॉएपीजे अब्‍दुल कलाम के नाम पर रख दिया

राज्‍यों के नामों में बदलाव
राज्‍यों के नामों में बदलाव के लिहाज से सबसे ताजा उदाहरण ओडिशा  पुडुचेरी का है 2011 में औपचारिक रूप से इनके अंग्रेजी स्‍पेलिंग में बदलकर इनका नाम उड़ीशा से ओडिशा  पोंडिचेरी का पुडुचेरी किया गया इसी की तर्ज पर केरल का नाम बदलकर केरलम किए जाने की मांग उठ रही है

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *