Breaking News

चुनावी राज्यों में गुजरात का फॉर्मूला आजमाएगी भाजपा

चुनावी राज्य मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़ और राजस्थान में सत्ता विरोधी रुझान से पार पाने के लिए भाजपा गुजरात फॉर्मूला अपनाएगी। आंतरिक सर्वे में राज्य सरकारों के खिलाफ नाराजगी के बावजूद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का जादू बरकरार रहने की रिपोर्ट है। इससे उत्साहित पार्टी नेतृत्व ने गुजरात की तर्ज पर बड़ी संख्या में नए चेहरों पर दांव लगाने और राज्यों के मुख्यमंत्रियों को पर्दे के पीछे रख मोदी को फ्रंट फुट पर लाने रणनीति बनाई है। पार्टी के एक वरिष्ठ नेता ने बताया कि मध्य प्रदेश और छत्तीसगढ़ में 15 साल की सत्ता और राजस्थान में दूसरे कारणों से सरकार के खिलाफ नाराजगी है।

आंतरिक सर्वे के मुताबिक राज्य सरकारों के खिलाफ नाराजगी के बावजूद पीएम मोदी पर वर्ष 2014 की तरह ही लोगों का भरोसा कायम है। यही कारण है कि पार्टी ने सत्ता विरोधी रुझान को कम करने के लिए बड़ी संख्या में विधायकों-मंत्रियों का टिकट काटने और पूरे चुनाव को सीधे पीएम मोदी से जोड़ने की रणनीति बनाई है। पार्टी के लिए राहत की बात है कि छत्तीसगढ़ के चुनाव के बाद मध्यप्रदेश और राजस्थान के लिए पीएम के पास क्रमश: दो और तीन हफ्ते का लंबा वक्त होगा।

राजस्थान में चिंता, मध्य प्रदेश में कार्यकर्ताओं पर भरोसा

पार्टी राजस्थान को लेकर चिंतित है, जबकि अपने सबसे मजबूत गढ़ माने जाने वाले मध्य प्रदेश में उसे कार्यकर्ताओं पर भरोसा है। इस सूबे में पार्टी के पास दशकों पुराने समर्पित कार्यकर्ताओं की बड़ी फौज है। इस कारण पार्टी आश्वस्त है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *