Breaking News

संयुक्त देश ने भी उइगर मुस्लिमों की हालत पर जताई चिंता

अमेरिका के सांसदों ने बोला है कि रोहिंग्या मुस्लिमों के समर्थन में वैश्विक प्रयासों का नेतृत्व करने वाले पाकिस्तान, तुर्की  खाड़ी राष्ट्रों की चाइना में उइगर मुस्लिमों के दमन पर चुप्पी आक्रोशित करने वाली है सांसद ब्रैड शर्मन ने बुधवार को संसदीय सुनवाई के दौरान कहा, “हमें खास तौर पर उन मुस्लिम राष्ट्रों का नाम लेना चाहिए जिन्होंने कुछ नहीं किया ‘ शेरमैन ने कहा, “चाहे वह तुर्की, पाक या खाड़ी राष्ट्र हों, इन्होंने रोहिंग्या मुस्लिमों के लिए बहुत ज्यादा कम कोशिश किए  उइगर मुस्लिमों की मदद करने से साफ पीछे हट गए ‘

चीन में उइगर एक अल्पसंख्यक मुस्लिम समुदाय है चाइना के स्वशासित एरिया शिनजियांग में लगातार कथित तौर पर इनका दमन हो रहा है उन्होंने आरोप लगाया कि चाइनाउइगर मुस्लिमों का बड़े पैमाने पर दमन कर रहा है हाल की संयुक्त देश की मीटिंग में जैसा कि संज्ञान लिया गया है कि चाइना गवर्नमेंट ने शिनजियांग को एक तरह से ‘नजरबंदी शिविर’ में तब्दील कर दिया है

संयुक्त देश ने भी उइगर मुस्लिमों की हालत पर जताई चिंता
संयुक्त देश ने बोला है कि चाइना में उइगर मुस्लिम समुदाय को बड़े पैमाने पर हिरासत में रखने की रिपोर्ट से वह चिंतित है  आतंकवाद से निपटने के बहाने हिरासत में रखे गए इन लोगों को रिहा करने का आह्वान किया है खबर एजेंसी शिन्हुआ के मुताबिक, संयुक्त देश का यह बयान ऐसे समय में आया जब रिपोर्टों में बोला गया है कि शिंजियांग में करीब 10 लाख से ज्यादा मुस्लिम उइगरों को पुन: एजुकेशन के लिए शिविरों में बंधक बनाकर रखा गया है

बीजिंग ने आरोपों से इंकार किया है लेकिन स्वीकार किया है कि कुछ धार्मिक चरमपंथियों को फिर से शिक्षित करने के लिए हिरासत में रखा गया है चाइना ने प्रांत में अशांति के लिए इस्लामिक आतंकियों  अलगाववादियों को जिम्मेदार ठहराया है अगस्त में एक समीक्षा के दौरान, नस्लीय भेदभाव के उन्मूलन पर संयुक्त देश समिति के सदस्यों ने बोला था कि विश्वसनीय रिपोर्ट दर्शाते हैं कि चाइना ने उइगर स्वायत्त एरिया को कुछ इस तरह से बदल दिया है कि यह एक बड़ा नजरबंदी शिविर जैसा नजर आता है चाइना ने जवाब दिया कि उइगरों को पूरा अधिकार मिला हुआ है, लेकिन स्वीकार किया कि चरमपंथ धार्मिक उन्माद के शिकार उइगरों को पुनर्वास  फिर से शिक्षित करने में सहायता प्रदान की जाएगी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *