Breaking News

भारत व पाकिस्तान के बीच चल रहे तनाव में आखिर किसकी हो रही चर्चा

भारत  पाक के बीच चल रहे तनाव के बीच  पिछले कुछ दिनों से करतारपुर साहिब गुरुद्वारे की चर्चा हो रही है  ये गुरुद्वारा वैसे तो है पाक में लेकिन इसके सबसे ज़्यादा श्रद्धालु हिंदुस्तान में हैं  सन 1947 में हुए बंटवारे ने सरहदों को तो बांट दिया लेकिन लोगों की श्रद्धा नहीं बंटी आज भी हिंदुस्तान के सिख समुदाय के लोग करतारपुर साहिब गुरुद्वारे में जाना चाहते हैं  वहां अरदास करना चाहते हैं  लेकिन सरहद का कानून उन्हें इस बात की इजाज़त नहीं देता 

इसका दूसरा पहलू ये भी है कि पाक के सियासी लोगों का दिल इतना छोटा है कि वो किसी नेक कार्य के लिए तैयार नहीं होना चाहते दूसरी तरफ हिंदुस्तान के कुछ नेता दूरबीन लगाकर इस गुरुद्वारे को देख रहे हैं  इसमें अपने लिए राजनीतिक संभावनाएं तलाश रहे हैं लेकिन आज हम राष्ट्र के करोड़ों श्रद्धालुओं की भावनाओं को ध्यान में करते हुए उन्हें साक्षात करतारपुर साहिब के दर्शन करवाएंगे  हमारी टीम ने दूरबीन से इस गुरुद्वारे को देखने के बजाए  खुद वहां जाकर रिपोर्टिंग की है

सबसे पहले आप एक नक्शे के ज़रिए ये समझिये कि करतारपुर साहिब गुरुद्वाराभारत के नज़दीक होने बावजूद हमारी पहुंच से दूर कैसे है ये गुरुद्वारा पंजाब के गुरदासपुर ज़िले के Border से सिर्फ़ 3 किलोमीटर दूर है  इस Border के पास मौजूद डेरा बाबा नानक से करतारपुर साहिब गुरुद्वारे की झलक दूरबीन से नज़र आती है  इसीलिए बहुत सारे लोग यहां आकर दूर से ही करतारपुर साहिब के दर्शन करके हाथ जोड़ते हैं ये सिखों के पहले गुरु गुरुनानक देव जी का घर था  गुरुनानक जी ने करतारपुर में ही अपने ज़िंदगी के अंतिम 18 सालबिताए थे  साल 1947 से पहले जब बंटवारा नहीं हुआ था तब श्रद्धालु बिना किसी रोक टोक के करतारपुर साहिब के दर्शन कर सकते थे  लेकिन बंटवारे के बाद करतारपुर साहिब का गुरुद्वारा पाक के हिस्से में चला गया  सिखों के लिए करतारपुर साहिब के दर्शन बहुत दुर्लभ हो गए 

इसलिए हमने ये तय किया कि हम आपको करतारपुर साहिब गुरुद्वारे के साक्षात दर्शन करवाएंगे  अंतरराष्ट्रीय चैनल Wion की टीम ने वहां जाकर आपके लिए एक स्पेशल रिपोर्ट तैयार की है ये रिपोर्ट देखकर हमारे राष्ट्र के बहुत सारे लोग भावुक हो जाएंगे

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *