Breaking News

रेलवे सुरक्षा बल ने रेलवे एक्ट में सुधार का दिया प्रस्ताव

इस विषय में रेलवे की ओर से रेलवे एक्ट में परिवर्तन किए जा रहे हैं फिल्हाल इस तरह की घटना में रेलवे एक्ट के तहत कार्रवाई नहीं की जा सकती थी महिला सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए रेलवे ने एक्ट में इस तरह का परिवर्तन करने का फैसला लिया है

आरपीएफ ने मांगे  अधिकार 
रेलगाड़ियों में स्त्रियों के विरूद्ध बढ़ते क्राइम को ध्यान में रखते हुए रेलवे सुरक्षा बल ने रेलवे एक्ट में सुधार का प्रस्ताव दिया है रेलवे एक्ट में इस तरह के सुधार के बाद आरपीएफ को ट्रेन में महिला से छेड़छाड़ करने वाले क्रिमिनल पर कार्रवाई करने के लिए जीआरपी की मदद की आवश्यकता नहीं होगी अब तक आरपीएफ को अधिकार नहीं है कि वो किसी भी तरह के आपराधिक मामले में कोई कार्रवाई कर सके ऐसे में रेलगाड़ियों में महिला के साथ होने वाले किसी भी क्राइम की स्थिति में आरपीएफ को मामले की सूचना जीआरपी को दे कर उनकी मदद लेनी होती है

रेलगाड़ियों में लगातार बढ़ रहे हैं महिला क्राइम 
आरपीएफ के एक वरिष्ठ ऑफिसर के अनुसार महिला अपराधों में हम तेजी से कार्रवाई कर सकें इसके लिए हमने रेलवे एक्ट में परिवर्तन की मांग की है वर्तमान समय में हमें हर बार जीआरपी की मदद लेनी होती है राज्यसभा में एक सवाल के जवाब में रेल मंत्रालय ने बताया कि साल 2014 से 2016 के बीच रेलवे में महिला अपराधों में 35 प्रतिशत की वृद्धि हुई हैइस दौरान लगभग 1607 मामले महिला क्राइम से जुड़े हुए दर्ज किए गए साल 2014 में जहां 448 मामले दर्ज हुए वहीं साल 2015 में 553 मामले दर्ज हुए साल 2016 में 606 मामले दर्ज हुए

महिला कोच में चढ़ने पर लगेगा दो गुना जुर्माना 
आरपीएफ ने महिला डिब्बों में यात्रियों पर लगने वाले जुर्माने को बढ़ाने का भी प्रस्ताव किया है फिल्हाल यदि कोई पुरुष किसी महिला डिब्बे में यात्रा करता पकड़ा जाता है तो उस पर 500 रुपये का जुर्माना लगता है इसको बढ़ा कर 1000 रुपये करने की मांग की गई है वर्तमान समय में रेलवे एक्ट की धारा 162 के तहत महिला डिब्बों में यात्रा करने वाले पुरुषों पर कार्रवाई होती है

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *