Breaking News

बदला नजर आ रहा ऑटो एक्सपो का नजारा

ऑटो एक्सपो ग्रेटर नोएडा यानी एशिया का सबसे बड़ा ऑटो एक्सपो जो अपने आयोजन, ब्रांड, व्यवस्था आदि को लेकर देश ही नहीं दुनिया में चर्चा प्राप्त करता है। यूं तो हर साल ऑटो एक्सपो में तकनीक के फैन को कुछ नया देखने को मिलता है। लेकिन यहां आने वालों की मानें तो इस साल का आयोजन कई मामलों में हर साल से कुछ ज्यादा अलग है। इस साल के आयोजन में एक खास स्ट्रेटजी का असर देखने को मिल रहा है। पिछले सालों के आयोजनों में शामिल कई बड़े ब्रांड इस बार ऑटो एक्सपो में शामिल नहीं हैं। वहीं कुछ घरेलू ब्रांड आश्चर्यजनक रूप से अपने उत्पादों को एक बड़े स्तर पर ले जाकर प्रदर्शित कर रहे हैं।

खल रही है ऑडी, फोर्ड, फॉक्सवैगन, स्कोडा की कमी

कार के दिवानों को इस साल ऑटो एक्सपो में ऑडी, फोर्ड, फॉक्सवैगन, स्कोडा की कमी खल रही है। वहीं बाइक के फैन हारले डेविडसन के ना होने पर आश्चर्य जता रहे हैं। जहां कई नामी ब्रांड ऑटो एक्सपो से दूर हैं। वहीं कई भारतीय बड़े ब्रांड जैसे टाटा, महिंद्रा, जेबीएम आदि अपने नये उत्पादों की खूबियों से लोगों को आकर्षित कर रहे हैं। ऑटो एक्सपो में बीएमडब्ल्यू और मसर्डिज के पास ही टाटा का स्थान होना ऑटोमोबाइल सेक्टर से जुड़े लोगों को एक अलग संदेश दे रहा है। कहीं न कहीं भारतीय उत्पादों को ज्यादा प्रमुखता मिलने की बातें ऑटोमोबाइल सेक्टर से जुड़े लोगों के बीच चर्चा का विषय बन रही है।

सरकारी सब्सिडी से जुड़े उत्पाद हैं आकर्षण का केंद्र

गौरतलब है कि इलेक्ट्रिक चार्जिंग और हाइब्रिड तकनीक से जुड़े नये उत्पादों के निर्माण पर लगभग सभी कंपनियां जोर दे रही हैं। कारों एवं बाइक, स्कूटी बस आदि में पेट्रोल डीजल के विकल्पों का इस्तेमाल कंपनियों की प्राथमिकता बनी हुयी है। ऑटो एक्सपो में भी हम भविष्य की कारों की झलक देख सकते हैं। यहां इलेक्ट्रिक और हाइब्रिड मॉडल से जुड़े कई उत्पाद प्रदर्शित किये जा रहे हैं। ऐसे विकल्पों के निर्माण में अकसर सरकारी योजनायें भी मददगार होती है।

भारत सरकार द्वारा इलैक्ट्रिक बस के प्रोजेक्ट के लिये जेबीएम ग्रुप को एक करोड़ की सब्सिडी दी गयी थी। मेक इन इंडिया के तहत बनी यह बस ऑटो एक्सपो में आने वालों का ध्यान लगातार अपनी ओर खींच रही है। जेबीएम में असिस्टेंट जनरल मैनेजर दुश्यंत शर्मा ने बताया कि यह बस भारतीय सड़कों और भारतीयों की सुविधाओं का खास ध्यान रखकर बनायी गयी है। इसमें 5 बैटरी हैं, जो दो तरह से चार्ज होती है। पहली तकनीक में 5 से 10 मिनट और दूसरी में 1 से डेढ़ घंटा लगता है। जिसके बाद 150- 200 किमी तक जा सकती हैं। करीब 6 महीनों में आप इन्हें भारतीय सड़कों पर दौड़ते देख सकते हैं। इसमें बुजुर्ग, दिव्यांग, महिलाओं सबकी सुविधाओं का खास ख्याल रखा गया है। बस को रोकने के लिये स्पेशल स्टॉप बटन दिया गया है। ऑटो एक्सपो में हमारे उत्पाद को लोगों का अच्छा रिस्पांस मिल रहा है। जेबीएम के साथ ही टाटा ग्रुप द्वारा भी इलैक्ट्रिक बस का प्रदर्शन किया गया है। साथ ही यहां महिंद्रा और मारूती के उत्पाद भी चर्चाओं में हैं।

सउदी अरब से ऑटो एक्सपो देखने भारत पहुंचे नजीब ने बताया कि इस साल भारतीय उत्पादों का प्रदर्शन हैरान कर देने वाला है। ऑटो एक्सपो में बहुत अच्छी व्यवस्था की गयी है। मुझे जापानी उत्पाद बेहद पसंद आये। लेकिन साथ ही भारतीय उत्पाद भी बाजार में अपनी पकड़ बनाने के लिये बेहतर प्रदर्शन कर रहे हैं। वैसे यहां की सिक्योरिटी, मॉडल सभी कुछ अच्छा था। ऑटो एक्सपो के लिये भारत आना एक अच्छा अनुभव रहा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *