Wednesday , June 23 2021
Breaking News

अंतरराष्ट्रीय लोकतंत्र दिवस पर उपराष्ट्रपति वेंकैया नायडू ने दिया ये बड़ा बयान

उपराष्ट्रपति एम वेंकैया नायडू ने शनिवार को अंतरराष्ट्रीय लोकतंत्र दिवस के दिन सर्बिया की संसद में अपने संबोधन में भारत के पहले प्रधानमंत्री पंडित जवाहरलाल नेहरू को याद किया। नायडू ने कहा कि 1961 में यहां पर पहला गुटनिरपेक्ष शिखर सम्मेलन हुआ था। तत्कालीन प्रधानमंत्री नेहरू और विश्व के गुटनिरपेक्ष आंदोलन के अन्य नेताओं ने इसी हॉल में सम्मेलन को संबोधित किया था।

नेहरू ने कहा था, समृद्ध समाज की नींव है आजादी 
सर्बिया की नेशनल असेंबली के एक विशेष सत्र को संबोधित करते हुए नायडू ने कहा, ‘यह अच्छा अवसर है जब भारत के पहले प्रधानमंत्री नेहरू के आजादी और समाज पर दिए संबोधन को याद किया जाए। नेहरू ने कहा था कि हमें एक ऐसे समाज का निर्माण करना चाहिए जहां वास्तविक आजादी हो। आजादी इसलिए महत्वपूर्ण है कि क्योंकि इसी से समृद्ध और सशक्त समाज का निर्माण होता। पंडित नेहरू की कही ये बातें आज भी प्रासंगिक हैं।’

उपराष्ट्रपति बोले, मजबूत हो लोकतांत्रिक राजनीति
उपराष्ट्रपति नायडू ने कहा, ‘हमें लोकतांत्रिक राजनीति की ताकत को और मजबूत बनाने का लगातार प्रयास करना चाहिए। भारत और सर्बिया के बीच संबंधों की जड़ें इतिहास में काफी गहरी हैं। कई मुद्दों पर भारत और सर्बिया के दृष्टिकोण समान हैं और दोनों में गहरे संबंध में जो दोनों देशों को नजदीक लाते हैं। दोनों देश लोकतांत्रिक मूल्यों पर यकीन करते हैं। साथ ही दोनों देश लोकतांत्रिक भावना को ही अपने लोगों में पोषित कर उनके जीवन में सुधार ला रहे हैं।’ इसके साथ ही नायडू ने भारत और सर्बिया के द्विपक्षीय व्यापारिक रिश्तों की भी तारीफ की। उन्होंने कहा कि वर्तमान में दोनों देशों के बीच सालान 20 करोड़ डॉलर व्यापार होता है, जिसे और बढ़ाया जाना चाहिए।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *