Breaking News

आर्थर रोड जेल की बैरक नंबर 12 का वीडियो देख माल्या बोले, बहुत अच्छा

बैंकों का 9 हजार करोड़ रुपया लेकर भगोड़ा हुए शराब कारोबारी विजय माल्या को भारत वापस लाया जा सकेगा या नहीं, इस बात का निर्णय 10 दिसंबर को होगा। भारत की तरफ से किए गए प्रत्यर्पण के आग्रह पर सुनवाई कर रही वेस्टमिंस्टर कोर्ट की जज एम्मा आर्बुथनॉट ने बुधवार को दोनों पक्षों की फाइनल बहस सुनने के बाद ये तारीख तय की। फैसला आने तक माल्या को इस मामले में मिली जमानत बरकरार रहेगी।

इससे पहले सुनवाई के दौरान माल्या के वकीलों ने वेस्टमिंस्टर कोर्ट के सामने भारत सरकार की तरफ से रखे गए सबूतों को सरासर निराधार बताया। साथ ही आर्थर रोड जेल के वीडियो की भी आलोचना की। माल्या की वकील क्लेर मोंटगोमेरी ने कहा कि बैरक में ताजा पेंट किया गया है और वहां कृत्रिम तरीके से प्रकाश दिखाने की कोशिश की गई, जो वहां है ही नहीं।

माल्या की वकील ने मांग की कि कोर्ट एक स्वतंत्र जांच दल को जेल की बैरक का निरीक्षण करने भेजे, जो ये तय करे कि यह बैरक ब्रिटिश मानवाधिकार मानकों को पूरा करती है या नहीं। उन्होंने ये भी दावा किया कि वीडियो में दिखाई गई बैरक इससे पहले भारतीय अधिकारियों की तरफ से दिए गए फोटो से मेल नहीं खाती है।

हालांकि जज आर्बुथनॉट ने स्पष्ट किया कि वे भारत में कैदखाने की स्थिति के बारे में कोई और जानकारी नहीं चाहती हैं। बता दें कि जज एम्मा ने जुलाई में पिछली सुनवाई के दौरान सीबीआई को बैरक का वीडियो पेश करने के आदेश दिए थे। इसी बैरक में प्रत्यर्पण के बाद माल्या को भारत लाकर रखा जाएगा।

भगोड़े शराब कारोबारी विजय माल्या को भारत लाए जाने के बाद मुंबई की आर्थर रोड जेल की जिस बैरक में रखा जाएगा, उस बैरक संख्या-12 का वीडियो बुधवार को वेस्टमिंस्टर कोर्ट में जज के सामने पेश किया गया। इस दौरान मौजूद माल्या ने भी वीडियो देखा और उसके बाद व्यंग्यात्मक ढंग से टिप्पणी करते हुए इस वीडियो को बहुत अच्छा बताया।

हालांकि माल्या ने बाद में मीडिया से कहा कि वे इस पर कोई कमेंट नहीं करेंगे। हालांकि उन्होंने इतना जरूर कहा कि वे इस मामले में बलि का बकरा बनाए जा रहे हैं, जिसे दोनों पार्टियां (कांग्रेस व भाजपा) पसंद नहीं करती हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *