Breaking News

अंत्येष्टि में शामिल होने के लिए नवाज शरीफ को मिली 12 घंटे की पैरोल

जेल में बंद पाकिस्तान के पूर्व प्रधानमंत्री, उनकी बेटी मरयम ओर दामाद मोहम्मद सफदर बुधवार को लाहोर पहुंचे। फिलहाल उन्हें रावलपिंडी की अडियाला जेल से 12 घंटे के लिए पैरोल मिली है।

बता दें कि, नवाज शरीफ की पत्नी बेगम कुलसूम नवाज (68) की मंगलवार को लंदन में मृत्यु हो गई थी। वह कैंसर से पीड़ित थीं। उनके शव को लाहोर लाया जाएगा और  शरीफ परिवार के जाती उमरा निवास में दफन किया जाएगा।

नवाज शरीफ और उनके बेटी-दामाद को रावलपिंडी के नूरखान एयरबेस से विशेष विमान द्वारा जाती उमरा पहुंचाया गया। बुधवार सुबह 03.15 बजे पहुंचे तीनों को पंजाब सरकार के गृह विभाग ने 12 घंटे के लिए जमानत दी है।  पाकिस्तान मुस्लिम लीग की प्रवक्ता मरयम औरंगजेब ने पीटीआइ को बताया कि शहबाज शरीफ ने पंजाब सरकार से अनुरोध किया था बेगम कुलसूम नवाज की अंत्येष्टि में शामिल होने के लिए तीनों को पांच दिन के लिए पैरोल पर जमानत दी जाए। हालांकि, पंजाब सरकार ने केवल 12 घंटे की ही अनुमति दी।

उन्होंने कहा कि सरकार जमानत की अवधि बढ़ाएगी, जिससे कि वह लोग शुक्रवार को होने वाले जनाजे तक रुक सकें। इसके साथ ही उन्होंने बताया कि शहबाज शरीफ बुधवार को ही बेगम कुलसूम का शव लेने लंदन जाएंगे।

अधिकारियों का कहना है कि जब हेगम कुलसूम का शव शुक्रवार को आना है तो पैरोल न बढ़ाने का कोई सवाल ही नहीं है। सरकार ने मानवीय मूल्यों के आधार पर नवाज शरीफ को उनकी पत्नी के अंतिम संस्कार में शामिल होने की इजाजत दी है।

इससे पहले पाक प्रधानमत्री इमरान खान ने बेगम कुलसुम के शव को वापस लाने और उनके पैरोल से संबंधित मामलों आदि के बारे में शरीफ परिवार को सुविधा देने का आदेश दिया था।

बेगम कुलसूम का लंदन के हार्ली स्ट्रीट क्लीनिक में इलाज हो रहा था। वह गले के कैंसर से पीड़ित थीं। जून से उन्हें वेंटीलेटर पर रखा गया था। 1950 में एक कश्मीरी परिवार मे जन्मीं बेगम कुलसूम ने लाहोर के फॉर्मन क्रिस्चियन कॉलेज से स्नातक किया था और 1970 में पंजाब विश्वविद्यालय से उर्दू में परास्नातक किया था। 1971 में इनकी नवाज शरीफ से शादी हुई थी। दोनों के हसन, हुसैन, मरयम और असमा चार संतानें थीं।

हसन और हुसैन के लाहोर आने के सवाल पर मरियम औरंगजेब ने कहा कि इस बारे में अभी कोई निर्णय नहीं लिया गया है। हालांकि दोनों के लाहोर न आने की संभावना ज्यादा है क्योंकि संपत्ति के मामले में न्यायालय द्वारा फरार करार दिए गए हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *