Breaking News

मुनाफावसूली के कारण कीमतों में नरमी का रुख

चना वायदे में पिछले सत्रों में आई जोरदार तेजी के बाद मुनाफावसूली के कारण बुधवार को कीमतों में नरमी का रुख देखने को मिला, हालांकि हाजिर भाव में शुरुआती कारोबार के दौरान स्थिरता बनी रही।

नेशनल कमोडिटी एंड डेरिवेटिव्स एक्सचेंज (एनसीडीएक्स) पर चने का अप्रैल डिलिवरी अनुबंध बुधवार को पूर्वाह्न् 11.23 बजे पिछले सत्र के मुकाबले 11 रुपये यानी 0.24 फीसदी की गिरावट के साथ 4,502 रुपये प्रति क्विंटल पर बना हुआ था। इससे पहले मुनाफावसूली के चलते भाव 4,481 रुपये तक फिसला। पिछले सत्र में चने का भाव एनसीडीएक्स तीन महीने के ऊंचे स्तर 4,529 रुपये प्रति क्विंटल पर चला गया था।

बाजार विश्लेषकों का कहना है कि पिछले सत्रों में चने में आई तेजी सरकार द्वारा मटर आयात का सालाना कोटा तय किए जाने से प्रेरित थी और अब ऊपरी भाव पर मांग कमजोर है इसलिए कीमतों में नरमी आ सकती है, हालांकि अभी हाजिर भाव में स्थिरता देखी जा रही है। दिल्ली की लॉरेंस रोड मंडी में राजस्थान लाइन चने का भाव पिछले सत्र के मुकाबले स्थिरता के साथ 4,500 रुपये प्रति क्विंटल और मध्यप्रदेश लाइन चना 4,450 रुपये प्रति क्विंटल पर बना हुआ था। बाजार सूत्रों के अनुसार, दिल्ली में बुधवार को चने की आवक 35 ट्रक के करीब रही।

केंद्र सरकार ने मटर आयात की सीमा वित्त वर्ष 2019-20 के लिए 1.5 लाख टन तय कर दी है। विश्लेषक बताते हैं कि मटर की आपूर्ति कम होने से इसकी कीमतों में तेजी रहने की संभावनाओं से पिछले सत्रों में चने में तेजी आई क्योंकि अब मटर की जगह चने की खपत बढ़ जाएगी। हालांकि आगे चने की घरेलू आवक बढ़ने से कीमतों पर दबाव आ सकता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *