Breaking News

भुखमरी के शिकार लोगों का दो तिहाई हिस्सा UN

संयुक्त राष्ट्र के खाद्य एवं कृषि संगठन (एफएओ) ने खाद्य संकट पर 2019 की अपनी रिपोर्ट में बताया है कि अफगानिस्तान और सीरिया, यमन, कांगो लोकतांत्रिक गणराज्य, उन आठ देशों में हैं जहां भुखमरी के शिकार लोगों का दो तिहाई हिस्सा है।

बीते साल दुनिया के 53 देशों में 11.3 करोड़ से ज्यादा लोग युद्ध और जलवायु संकट की वजह से आहार की कमी या कुपोषण के शिकार हुए और सबसे अधिक कुपोषण प्रभावित अफ्रीका रहा। एफएओ के आपात निदेशक डोमनिक बुर्जुआ के आधिकारिक बयान के अनुसार इस संकट की सबसे अधिक

मार अफ्रीकी देशों पर पड़ी है जहां 7.2 करोड़ लोग भोजन की कमी से जूझ रहे हैं।बुर्जुआ ने कहा, ‘भुखमरी के कगार पर खड़े देशों में 80 फीसद लोग कृषि पर निर्भर हैं। उन्हें भोजन के लिए आपात मानवीय सहायता की जरूरत है और कृषि में सुधार के लिए कदम उठाने की आवश्यकता है।’

गौरतलब है कि रिपोर्ट के अनुसार, इसके लिए आर्थिक उथल-पुथल और जलवायु आपदाओं जैसे सूखा एवं बाढ़ के साथ ही संघर्ष और असुरक्षा प्रमुख कारक रहे। बुर्जुआ ने कहा, ‘भुखमरी के कगार पर खड़े देशों में 80 फीसद लोग कृषि पर निर्भर हैं। उन्हें भोजन के लिए आपात मानवीय

सहायता की जरूरत है और कृषि में सुधार के लिए कदम उठाने की जरूरत है।’ रिपोर्ट में बड़ी संख्या में शरणार्थियों को शरण देने वाले देशों, युद्ध प्रभावित सीरिया के पड़ोसी देशों पर पड़ने वाले दबावों को रेखांकित किया गया है। ऐसे देशों में बांग्लादेश

भी है जहां लाखों रोहिंग्या शरणार्थी हैं। एफएओ ने कहा कि यदि वेनेजुएला में राजनीतिक और आर्थिक संकट बना रहता है तो विस्थापित लोगों की संख्या बढ़ सकती है। वेनेजुएला इस साल खाद्य आपात की घोषणा कर सकता है

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *