Breaking News

इंग्लैंड जैसे विकसित देशों की तर्ज पर जल्द शुरू होगा आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस केंद्र

अमेरिका और इंग्लैंड जैसे विकसित देशों की तर्ज पर केंद्र सरकार जल्द सेंटर ऑफ एक्सीलेंस इन आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस (एआई) शुरू करने की तैयारी में है। इस केंद्र के प्रयोगों के जरिए साइबर सुरक्षा, स्वास्थ्य, कृषि और शिक्षा समेत विभिन्न क्षेत्रों में एआई तकनीक का लाभ मुहैया कराया जाएगा। जिसका नेतृत्व राष्ट्रीय सूचना केंद्र (एनआईसी) के हाथों में रहेगा।

इलेक्ट्रॉनिक सूचना एवं प्रौद्योगिकी (आईटी) मंत्रालय ने एआई का नीतिगत ढांचा तैयार करने के लिए चार समितियों का गठन किया था। पहली समिति आईआईटी खड़गपुर के प्रोफेसर पीपी चक्रवर्ती के नेतृत्व में एआई के प्लेटफार्म और डाटा से संबंधित है। दूसरी समिति आईआईटी बीएचयू प्रोफेसर राजीव संगल की अध्यक्षता में प्रमुख क्षेत्रों में एआई के लिए राष्ट्रीय मिशन की पहचान करने पर काम कर रही है।

तीसरी समिति नैसकॉम अध्यक्ष आर चंद्रशेखर की देखरेख में तकनीकी क्षमताओं की मैपिंग, सभी क्षेत्रों में नीतिगत जरूरतों पर काम कर रही है। चौथी समिति आईआईटी भिलाई के निदेशक रजत मूना के नेतृत्व में साइबर सुरक्षा, कानूनी और नैतिक मुद्दों में एआई के प्रयोग पर काम कर रही है। इन सभी समितियों की सिफारिशों को सेंटर ऑफ एक्सीलेंस इन एआई व्यवहारिक तौर पर लागू करने पर कदम बढ़ाएगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *