Breaking News

मध्‍य पश्चिमी हिस्‍से में जारी भयंकर सर्दी को लेकर ट्रंप ने किया ट्वीट

अमेरिकी राष्‍ट्रपति डोनाल्‍ड ट्रंप एक बार फिर अपने एक ट्वीट की वजह से खबरों में आ गए हैं। ट्रंप ने अमेरिका के मध्‍य पश्चिमी हिस्‍से में जारी भयंकर सर्दी को लेकर ट्वीट किया। इस ट्वीट में उन्‍होंने पहले तो पोलर वोरटेक्‍स की वजह से अमेरिका में गिरते तापमान की बात की। फिर उन्‍होंने ग्‍लोबल वॉर्मिंग का जिक्र किया। ट्रंप ने ग्‍लोबल वॉर्मिंग की स्‍पेलिंग गलत लिखी और फिर उन्‍होंने ग्‍लोबल वॉर्मिंग के वापस लौटने की अपील भी कर डाली। ट्रंप की इस ट्वीट के बाद कई लोगों ने उनकी शिक्षा पर भी सवाल खड़े कर दिए।

Global Warming या Waming

ट्रंप ने ट्वीट किया, ‘खूबसूरत मिडवेस्‍ट में विंडचिल तापमान -60 डिग्री तक पहुंच गया है, ठंड का अब तक सर्वोच्‍च रिकॉर्ड। आने वाले दिनों में मिडवेस्‍ट और ठंडा होगा। लोग एक मिनट के लिए भी घर से बाहर नहीं रह सकते हैं। ग्‍लोबल वॉर्मिंग के साथ क्‍या हो रहा है। तेजी से वापस आ जाओ, हमें तुम्‍हारी जरूरत है।’ ट्रंप ने अपनी ट्वीट में ग्‍लोबल वॉर्मिंग की गलत स्‍पेलिंग लिखी और लिखा, ‘Global Waming’ जबकि सही स्‍पेलिंग होती है, ‘Global Warming’। ट्रंप की इस ट्वीट के बाद लोगों ने उन पर क्‍लाइमेट चेंज को नजरअंदाज करने का आरोप भी लगाया। एक यूजर ने लिखा, ‘क्‍या आप वास्‍तव में क्‍लाइमेट चेंज को लेकर अज्ञान हैं। क्‍या आपने कभी अपनी जिंदगी में एक भी किताब नहीं पढ़ी है।’ एक और यूजर ने ट्वीट किया और लिखा, ‘हमें कभी भी ऐसा राष्‍ट्रपति नहीं चाहिए। मुझे लगता था कि मैं इस राष्‍ट्रपति के कार्यकाल का काफी अच्‍छे से लुत्‍फ उठा पाऊंगा।’

चीन को बताया ग्‍लोबल वॉर्मिंग के लिए जिम्‍मेदार

ट्रंप कई बार अपनी ट्वीट में अजब-गजब बातें कह चुके हैं। नवंबर 2012 में ट्रंप ने ट्वीट किया था और लिखा था , ‘ग्‍लोबल वॉर्मिंग का कॉन्‍सेप्‍ट चीन की ओर से लाया गया है ताकि अमेरिका की उत्‍पादन क्षमता को प्रभावित किया जा सके।’ अमेरिका ने साल 2015 में हुए पेरिस एग्रीमेंट से अपना नाम वापस ले लिया है। साल 2017 में ट्रंप ने यह फैसला किया था। इसके बाद से लगातार अमेरिका पर क्‍लाइमेट चेंज को नजरअंदाज करने के आरोप लगते रहे हैं। पेरिस क्‍लाइमेट चेंज का मकसद मौसम में होने वाले बदलावों को देखते हुए वैश्विक तौर पर एकजुट होकर इसका सामना करना था ताकि इस सदी के अंत तक इस धरती के तापमान को दो डिग्री सेल्सियस से कम किया जा सके।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *