Breaking News

जल्‍द हो सकता है CBI डायरेक्‍टर के नाम का ऐलान

चुनने के लिए शुक्रवार को की मीटिंग में प्रस्तावित नामों को लेकर समिति के सदस्य कांग्रेस पार्टी नेता मल्लिकार्जुन खड़गे के एतराज के बावजूद केंद्र जल्द ही एजेंसी के अगले प्रमुख के नाम की घोषणा कर सकता है

अधिकारियों ने बताया कि समझा जाता है कि तीन सदस्यीय चयन समिति की दूसरी मीटिंग के दौरान गवर्नमेंट ने ऐसे कुछ अधिकारियों के नाम सामने रखे, जिन्हें CBI निदेशक पद पर नियुक्ति के योग्य माना गया है उन्होंने बताया कि हालांकि इन नामों पर खड़गे ने असहमति जाहिर की खड़गे तीन सदस्यीय समिति का भाग हैं

बताया जा रहा है कि पद के लिए 1984 बैच के वरिष्ठ आईपीएस ऑफिसर जावेद अहमद, रजनी कांत मिश्रा, एस एस देसवाल का नाम दौड़ में सबसे आगे है उत्तरप्रदेश कैडर के आईपीएस ऑफिसर अहमद वर्तमान में राष्ट्रीय अपराधशास्त्र एवं विधि विज्ञान संस्थान के प्रमुख हैं जबकि अहमद के ही कैडर के तथा सहपाठी मिश्रा सीमा सुरक्षा बल (बीएसएफ) के प्रमुख हैं

हरियाणा कैडर के आईपीएस देसवाल भारत-तिब्बत सीमा पुलिस (आईटीबीपी) के महानिदेशक हैं चयन समिति की मीटिंग का ब्यौरा दिए बिना एक वरिष्ठ सरकारी ऑफिसर ने बताया, ‘‘बैठक के दौरान कोई निर्णय नहीं हो पाया ’’

इससे पहले दिन में, सुप्रीम न्यायालय ने बोला कि वह अंतरिम CBI निदेशक की नियुक्ति के ‘खिलाफ’ नहीं है लेकिन केन्द्र को ‘तत्काल’ केन्द्रीय जांच ब्यूरो के नियमित निदेशक की नियुक्ति करनी चाहिए शीर्ष न्यायालय ने बोला कि CBI निदेशक का पद संवेदनशील है  लंबे समय तक इस पद पर अंतरिम निदेशक को रखना अच्छी बात नहीं है पीठ ने इस टिप्पणी के साथ ही गवर्नमेंट से जानना चाहा कि अभी तक इस पद पर नियुक्ति क्यों नहीं की गई

आलोक वर्मा को हटाए जाने के बाद से CBI प्रमुख का पद 10 जनवरी से ही खाली है करप्शन के आरोपों पर गुजरात कैडर के आईपीएस ऑफिसर राकेश अस्थाना के साथ वर्मा का विवाद हुआ था वर्मा  अस्थाना दोनों ने एक दूसरे पर करप्शन के आरोप लगाए थे वर्मा के हटाए जाने के बाद से एम नागेश्वर राव अंतरिम CBI प्रमुख के तौर पर कार्य कर रहे हैंशुक्रवार की मीटिंग पीएम के आवास पर हुई यह मीटिंग एक घंटे से ज्यादा समय तक चली मुख्य न्यायाधीश रंजन गोगोई ओर कांग्रेस पार्टी नेता मल्लिकार्जुन खड़गे मीटिंग में शामिल हुए

इससे पहले 24 जनवरी को मीटिंग हुई थी लेकिन CBI प्रमुख पर कोई निर्णय नहीं हो पाया था पिछली मीटिंग में समिति के सदस्यों से कुछ योग्य अधिकारियों की सूची  उनकी फाइलें साझा की गई पीएम के नेतृत्व वाली समिति द्वारा CBI निदेशक पद से हटाए जाने के बाद वर्मा को महानिदेशक दमकल सेवा, नागरिक सुरक्षा  गृह रक्षा बनाया गया थाहालांकि, वर्मा ने इस पद को स्वीकार नहीं किया

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *