Breaking News

पुण्यतिथि विशेष: हिंदुस्तान का नाम रोशन करने वाली पहली महिला बनी ‘कल्पना चावला’

भारतीय मूल की अंतरिक्ष यात्री कल्पना चावला संसार भर की करोड़ों स्त्रियों के लकी एक बड़ी प्रेरणा है कल्पना एक इंडियन अमेरिकी अंतरिक्ष यात्री थी, आज वे हमारे बीच ना होते हुए भी अपने ऐतिहासिक कारनामे के दम पर स्त्रियों की आदर्श बनी हुई है ख़ास बात यह है कल्पना चावला अंतरिक्ष में जाने वाली प्रथम इंडियन महिला थी

हिंदू परिवार में कल्पना का जन्म 17 मार्च 1962 को हरियाणा के करनाल में हुआ था कल्पना के पिता का नाम श्री बनारसी लाल चावला  माता का नाम संजयोती था बोला जाता है कि चारों भाई-बहनों में सबसे छोटी होने के नाते परिवार में उन्हें मोंटू बोला जाता था बचपन से ही वे विज्ञान के एरिया में कदम रखना चाहती थी कल्पना की प्रारंभिक एजुकेशन टैगोर पब्लिक स्कूल करनाल में हुई, इसके बाद उन्होने वैमानिक अभियान्त्रिकी में पंजाब इंजिनियरिंग कॉलेज, चंडीगढ़, से एजुकेशन प्राप्त करते हुए 1982 में अभियांत्रिकी स्नातक की उपाधि हासिल की

कल्पना ने इस दौरान आगे 1986 में दूसरी विज्ञान निष्णात की उपाधि पाई  1988 में कोलोराडो विश्वविद्यालय बोल्डर से वैमानिक अभियंत्रिकी में विद्या वाचस्पति की उपाधि प्राप्त की अंतरिक्ष यात्रा का तमगा पाने से पहले कल्पना अमेरिका के नासा में एक सुप्रसिद्ध वैज्ञानिक थी आज ही के दिन वर्ष 2003 में टेक्सस, संयुक्त राज्य अमेरिका में उन्होने अंतिम सांस ली थी उनकी मृत्यु कोलंबिया अन्तरिक्ष यान आपदा में हुई थी कल्पना कोलंबिया अन्तरिक्ष यान आपदा में मारे गए सात यात्री दल सदस्यों में से एक थीं

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *