Breaking News

लैंगिक समानता के लिए लड़ाई में पुरुषों का अहम किरदार

 सुप्रीम न्यायालय के जज न्यायमूर्तिने रविवार को बोला कि लैंगिक समानता के लिए लड़ाई में पुरुषों की अहम किरदार है उन्होंने लैंगिक भूमिकाओं को लेकर बनी धारणाओं को तोड़ने पर भी जोर दिया केरल के सबरीमाला मंदिर में सभी आयु की स्त्रियों को प्रवेश की अनुमति देने वाली शीर्ष न्यायालय की पांच न्यायाधीशों की पीठ के सदस्य रहे न्यायमूर्ति चंद्रचूड़ ने बोला कि स्त्रियों के साथ होने वाली हिंसा  भेदभाव की समस्याएं उनके अधिकारों  मुद्दों पर लोगों की संवेदनहीनता से  भी बढ़ जाती हैं

वह यहां गुजरात नेशनल लॉ यूनिवर्सिटी के दीक्षांत समारोह को संबोधित कर रहे थे इस दौरान सुप्रीम न्यायालय के न्यायाधीश न्यायमूर्ति ए के सीकरी भी उपस्थित थे चंद्रचूड़ ने कहा, ‘‘लैंगिक समानता के लिए लड़ाई अकेले महिलाएं नहीं लड़ सकतीं ’’ इसके लिए पुरुषों को अहम किरदार निभानी होगी

समारोह को संबोधित करते हुए न्यायमूर्ति सीकरी ने बोला कि जब दुनियाभर में लोकतंत्र के मूल्य दांव पर लगे हुए हैं, ऐसे में कानून  संविधान को बरकरार रखने तथा लोकतंत्र को बचाने की आवश्यकता है

जस्टिस चंद्रचूड़ ने बोला कि जेंडर भूमिका को जो स्‍टीरियोटाइप किया गया है, उसको हर रोज खत्‍म किए जाने की आवश्यकता है अवसरों के मामले में भयानक असमानता विषमता देखने को मिलती है जिसमें एजुकेशन भी शामिल है जस्टिस चंद्रचूड़ ने विद्यार्थियों से आह्वान करते हुए बोला कि उन्‍हें अपनी योग्‍यता का इस्‍तेमाल समाज में व्‍याप्‍त असमानता को कम करने की दिशा में करना चाहिए

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *