Breaking News

 CM जयललिता की मौत के दो वर्ष बाद भी ये चला रहे उनका बैंट अकाउंट

तमिलनाडु की दिवंगत CM जे जयललिता की मौत को दो वर्ष हो चुके हैं लेकिन उनके बैंट अकाउंट अभी भी चल रहे हैं.

अभी दो दिन पहले ही इनकम टैक्स विभाग ने सभी को ये बताकर आश्चर्य चकित कर दिया कि अपनी मौत से दस वर्ष पहले तक तमिलनाडु की पूर्व CM जयललिता जिस घर में रहती थीं उसे इनकम टैक्स विभाग ने 16.74 करोड़ रुपये बकाया होने की वजह से अटैच किया हुआ था.

यह तथ्य तब सामने आए जब मद्रास न्यायालय के सामने इनकम टैक्स विभाग ने बोला कि वेद निलायम, जयललिता का पॉश गार्डन रेसीडेंस वर्ष 2007 से ही विभाग ने अटैच किया हुआ था.

इनकम टैक्स विभाग के वरिष्ठ ऑफिसर ने बताया, “हमारे पास जानकारी है कि व्यवसायिक  आवासीय संपत्ति, जिसमें कोडानाड की संपत्ति भी शामिल है, से हर महीने किराए का पैसा आ रहा है.

उन्होंने बोला कि बकाया राशि 5 दिसंबर, 2016 से उनकी मौत के बाद से लगातार बढ़ती जा रही है, क्योंकि किसी ने भी अभी तक इसे चुकाने की जिम्मेदारी नहीं ली है.

ऑफिसर ने कहा, “आयकर विभाग एक्ट के अनुसार हमनें जयललिता की चार संपत्ति अटैच करने के बाद, सब-रजिस्ट्रार से बोला है कि इनमें से किसी में भी डील न करें.  जब तक उनका इनकम टैक्स का बकाया पूरा न दिया जाए न तो संपत्ति को बेचा जाए  न दी पट्टे पर दिया जाए.

वरिष्ठ ऑफिसर ने कहा, “हमनें सब-रडिस्ट्रार्स को सूचित करने के अतिरिक्त कई बार पूर्व CM को रिमाइंडर भेजे थे कि वह कर का बकाया दें. लेकिन उन्होंने कोई कदम नहीं उठाया न तो बकाया राशि दी  न ही अपनी संपत्ति को अटैच करने के लिए जारी किया. उनकी फाइल में कागजों के बंडल हैं, जिनमें समन, रिमाइंडर आदि की जानकारियां हैं. समन गए  आए पर कर की राशि का भुगतान करने के लिए कोई एक्शन नहीं लिया गया.

विभाग के स्थायी वरिष्ठ परामर्शदाता एपी श्रीनिवास ने बताया कि वेद नियालम के अतिरिक्त तीन  संपत्ति- दो चेन्नई में  एक हैदराबाद को भी विभाग ने अटैच किया हुआ था. यह प्रस्तुतियां जनहित याचिका की सुनवाई के दौरान की गईं. याचिका राज्य गवर्नमेंट को वेद निलायम को स्मारक के तौर पर बदलने से रोकने के लिए दाखिल की गई है. जिसे सामाजिक कार्यकर्ता केआर रामास्वामी ने दाखिल किया है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *