Breaking News

पुलिसवालों ने गंभीर रूप से घायल युवक को अस्पताल ले जाने के बदले मांगे दस हजार रुपये

देश की सबसे स्मार्ट पुलिस कहे जाने वाली दिल्ली पुलिस पर कुछ करप्ट पुलिस वाले अपने छोटे से लालच की वजह से इतना बड़ा दाग लगा देते हैं, जिसको धोना पूरी पुलिस फोर्स के लिए कठिन हो जाता है ताजा मामला नार्थ डिस्ट्रिक्ट के कोतवाली थाने का है, जहां मृतक के परिजनों पर पुलिस ने गंभीर आरोप लगाए हैं आरोप है कि पुलिसवालों ने एक गंभीर रूप से घायल आदमी को अस्पताल में ले जाने के बदले, उसे छोड़ने के एवज में उससे दस हजार रुपये की मांग की मामला सामने आने के बाद पुलिस ने कार्रवाई कर दो आरोपी पुलिसवालों को सस्पेंड कर दिया है  

मृतक की भतीजी ने आरोप लगाया है कि 19 दिसंबर को उसके चाचा धर्मेन्द्र जब घर लौट रहे थे, तो उनका टेम्पो पुलिस की बेरिकेट से टकरा गया पुलिस को सामने देख भय के वो टेम्पो लेकर भागने लगा मौके पर मौजूद पुलिस के जवानों को कुछ संदेह हुआ तो वो उसके पीछे भागे, लेकिन थोड़ी दूर जाने के बाद गीता कॉलोनी फ्लाईओवर पर धर्मेंद्र का टेम्पो पलट गया आरोप है कि घायल धर्मेंद्र को पुलिस ने अस्पताल में भर्ती कराने के बजाय, उसे अपने साथ ले गई  उसे छोड़ने के एवज में दस हजार रुपयों की मांग की

मृतक का परिजनों ने 2300 रुपये किसी तरह जमा किए  पुलिसवालों को दी, जिसके बाद पुलिस वालों ने घायल धर्मेंद्र को परिवार के हवाले कर दिया घायल धर्मेंद्र को परिजन बाबू जगजीवन अस्पताल लेकर गए, जहां उचित समय पर उपचार नहीं मिलने की वजह से उसकी मौत हो गई मृतक की शिकायत के बाद पुलिस हरकत में आई  आरोपी दोनों पुलिसवालों को सस्पेंड कर जांच के आदेश दिए हैं

नॉर्थ डिस्ट्रिक्ट की डीसीपी नूपुर प्रसाद ने बताया कि टेम्पो चालक ने पुलिस बेरिकेट पर मुक़ाबला मारी  वो वापस गलत दिशा में टैम्पो के साथ भागने लगा पुलिस को कुछ संदेह हुआ तो उसका पीछा किया गया गीता कॉलोनी फ्लाईओवर पर टेम्पो पलट गया था, पुलिस ने जब धर्मेंद्र को पकड़ा तो उसने शराब पी हुई थी पुलिस ने कार्रवाई की  बाद में उसे छोड़ दिया, घर जाने के बाद उसकी मौत हो गई डीसीपी ने बताया परिवार की शिकायत पर दो पुलिस वालों को सस्पेंड कर जांच प्रारम्भ कर दी है

वहीं, मृतक की भतीजी का कहना है कि उसके चाचा शराब जरूर पीते थे, लेकिन इतनी नहीं कि वो दुर्घटना कर देते धर्मेंद्र के साथ मौजूद शख्स का आरोप है कि पुलिस ने दुर्घटना के बाद उनको मारा था, जिसकी वजह से विवाह के एक महीने बाद ही एक दुल्हन का सुहाग दस हजार की घूस की भेंट चढ़ गया

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *