Breaking News

इसरो ने चंद्रमा मिशन चंद्रयान-2 को लेकर लिया ये फैसला

भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) ने शुक्रवार को हिंदुस्तान के दूसरे चंद्रमा मिशन चंद्रयान-2 के टालने की घोषणा कर दी है. इसरो ने बोला कि इसे अप्रैल के अंत से पहले नहीं किया जा सकता है. इसरो ने पहले इस मिशन को जनवरी के अंत या फरवरी की आरंभ में करने की घोषणा की थी.

इसरो प्रमुख के सिवान ने बोला कि अभी हमने कई टेस्ट नहीं पूरे किए हैं. अब लांच अप्रैल या मार्च में हो पाएगा. उन्होंने बोला कि अगर यह लक्ष्य भी नहीं पाया जा सका तो फिर इस मिशन को जून तक के लिए टाल दिया जाएगा. इसरो 2018 में दूसरे कई लांच प्रोजेक्ट्स में लगा रहा जिसका प्रभाव इस मिशन पर पड़ा है  इसमें देरी हुई है.

राष्ट्र का सबसे महत्वकांक्षी मिशन चंद्रयान-2  को पहले अक्टूबर 2018 के पहले हफ्ते में भेजा जाना था लेकिन तकनीकी गड़बड़ी के चलते ऐसा नहीं हो पाया था. उस वक्त इसे जनवरी 2018 तक टाल दिया गया था . चंद्रयान-2 अंतरिक्ष यान का वजन करीब 3,290 किलोग्राम है  वह चांद के चारों ओर चक्कर लगाते हुए आंकड़े एकत्रित करेगा.

उन्होंने बोला कि टेलीकॉम मंत्रालय के अनुरोध पर  विमान के अंदर कॉलिंग सेवाएं उपलब्ध कराने के लिए हमनें पहले ही जीसैट 29, जीसैट11  जीसैट  20 सैटेलाइट लांच किए हैं. यह डिजिटल इंडिया प्रोग्राम को आगे बढ़ाते हुए इंटरनेट की स्पीड को भी बेहतर बनाएंगे. इनका प्रयोग विमान के अंदर बात करने के लिए किया जा सकेगा.

सिवान ने बोला कि भारत एरोनॉटिकल लिमिटेड यानी एचएएल  एल एंड टी एक संघ बना रहे हैं जो पोलर सैटेलाइट लॉन्च व्हीकल (पीएसएलवी) का निर्माण करेगा. यह संघ जीएसएलवी क्लास के रॉकेट भी बनाएगा.

सिवान ने बोला कि गवर्नमेंट की ओर से विभिन्न योजनाओं के तीस हजार करोड़ रुपये जारी किये गए हैं.  इसमें से 10 हजार करोड़ गगनयान के लिए है. इसके अतिरिक्त इसरो प्रमुख ने 2019 के दूसरे कार्यक्रमों की जानकारी दी. उन्होंने बताया कि नयी तकनीक का पीएसएलवी, चौथे चरण में परखा जाएगा.  इसके अतिरिक्त जीसैट  20 को सितंबर अक्टूबर में लांच किए जाने की योजना है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *