बीजेपी को बड़ा झटका, दो कैबिनेट मंत्री समेत 8 विधायक सपा में शामिल

पूर्व मंत्री दारा सिंह चौहान भी ऐलान कर चुके हैं कि 16 जनवरी को वह भी समाजवादी पार्टी में शामिल हो जाएंगे

बाबा को इस बार दिल्ली वाले भी पास नहीं करा सकते – अखिलेश यादव

समाजवादी- अम्बेडकरवादी मिलकर इस बार 400 सीटें जीतेंगे – अखिलेश यादव

साइकिल की हैंडल ठीक है , पैंडल मारने वाले भी आ गए – अखिलेश यादव

बाबा मैच खेलना नहीं जानते , उनसे कैच छूट गया- अखिलेश यादव

लखनऊ. उत्तर प्रदेश विधानसभा का चुनाव बेहद दिलचस्प होता जा रहा है। पिछले कुछ दिनों में सियासी समीकरण और तसवीर बहुत तेजी से बदली है। चुनाव की तारीख का ऐलान होते ही एक के बाद एक बीजेपी के कई मंत्रियों और विधायकों ने सपा का रुख किया है। इसके चलते अखिलेश यादव फूले नहीं समा रहे हैं। सियासी पिच पर उन्‍होंने बीजेपी को करारा झटका दिया है। अखिलेश इस बात से भी बेहद खुश हैं कि उनकी रणनीति को बीजेपी भांप तक नहीं सकी। उन्‍होंने कहा कि अगर बीजेपी को इसकी जरा भी भनक लगती तो वह डैमेज कंट्रोल में लग जाती।

सपा ज्वाइन करने वाले नेताओं को लाल पगड़ी पहनाकर किया गया स्वागत

पिछले कुछ दिनों में यूपी के चुनावी शो में सपा छा गई है। भाजपा से इस्तीफा दे चुके दो कैबिनेट मंत्री स्वामी प्रसाद मौर्य और धर्म सिंह सैनी और भगवती सागर, विनय शाक्य, रोशन लाल वर्मा, मुकेश वर्मा, बृजेश कुमार प्रजापति समेत नौ विधायकों ने शुक्रवार को समाजवादी पार्टी का दामन थामा है। यह संख्‍या लगातार बढ़ती जा रही है। अक्‍टूबर से बीजेपी के करीब 13 विधायक सपा में शामिल हो चुके हैं।

विधायकों के सपा में शामिल होने के इस कार्यक्रम में पूर्व सीएम ने मुख्‍यमंत्री योगी पर खूब तंज कसे। उन्‍होंने कहा- ‘मुझे लगता है कि सरकार के लोगों को पहले ही पता लग गया था कि स्वामी प्रसाद मौर्य और धर्म सिंह सैनी के साथ बड़ी संख्या में लोग आ रहे होंगे। इसलिए हमारे मुख्यमंत्री पहले ही गोरखपुर चले गए। हालांकि, उनकी 11 मार्च की किसी ने टिकट बुक कर रखी है।’

अखिलेश ने कहा- ये जो उत्तर प्रदेश के बाबा मुख्यमंत्री हैं वो फेल हो चुके हैं। जितने भी दिल्ली वाले आए, अब ये पास होने वाले नहीं हैं क्योंकि जनता ने मन बना लिया है कि इनका सूपड़ा साफ होगा और इस बार तो ऐसा बीजेपी वाले हिट विकेट हुए कि हमारे तमाम नेताओं की स्ट्रैटेजी नहीं समझ पाए वो। अगर स्ट्रैटिजी समझ गए होते तो पता नहीं क्या करते वो लोग। न जाने कौन से डैमेज कंट्रोल में लग जाते।

अखिलेश यादव ने कहा कि वो 80 की बात करते हैं। मुझे लगता है कि समाजवादी गठबंधन के साथ 80 फीसदी लोग तो पहले से थे और 20 लोगों में भी बुद्धिजीवी और समाजवादी चिंतक हैं जो सपा के साथ हैं। यादव ने कहा, ‘कुछ दिनों पहले हमने कहा था कि मुख्यमंत्री जी को गणित का अध्यापक रखना होगा। यह जो अस्सी और बीस की बात कर रहे हैं। समाजवादी पार्टी के साथ अस्सी फीसदी लोग खड़े ही हो गए। जिन जिन लोगों ने आज मंच को देखा होगा, स्वामी प्रसाद मौर्य की बात सुनी होगी, उससे लगता है कि वह 20 फीसदी भी उनके खिलाफ हो गए होंगे।’

अखिलेश ने कहा कि उन्होंने कहा था कि किसानों की आय दोगुनी हो जाएगी, लेकिन कुछ नहीं हुआ। कोई भी फसल और पैदावार सरकार ने खरीदी नहीं। अगर किसी को खाद मिल भी गई तो बोरी देखने के बाद उसमें 5 किलो की चोरी गई है। जिस कंपनी के पास पेट्रोल और डीजल की सप्लाई का काम है, वहीं की गलत नीतियों की वजह से 600 फीसदी तक मुनाफा कमा रहे हैं।

अखिलेश ने कहा कि समाजवादी और अंबेडकरवादी लोग मिलकर अगर साथ लड़ेंगे तो इस बार हम लोग 400 सीटें भी जीत सकते हैं। जनता बदलाव और परिवर्तन चाहती है। उन्होंने कहा कि कितने भी दिल्ली वाले आ जाएं, बाबा पास नहीं होने वाले हैं। स्वामी प्रसाद मौर्य के पास पुराने मामले में वारंट भेज दिया गया। छापा मारना था कहीं और छापा कहीं और मार दिया। अखिलेश ने कहा कि लोहियावादी, समाजवादी और आंबेडकरवादी अब साथ आ गए हैं। सपा की सरकार बनने से कोई नहीं रोक सकता।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button