Breaking News

मां का दूध व पहला दूध शिशु के लिए होता है अमृत

एक से लेकर 7 अगस्त तक पूरी संसार में स्तनपान हफ्ते मनाया जा रहा है किसी भी जन्मजात बच्चे के लिए उसकी मां का पहला दूध सबसे बड़ी औषधी या कहें टॉनिक होता है कुछ लोग तो मां के पहले दूध की तुलना बच्चे के लिए अमृत से करते हैं लेकिन अफसोस की बात यह है कि हिंदुस्तान के अंदर ही 44 प्रतिशत बच्चों को मां का पहला दूध नहीं मिल पाता है अगर संसार की बात करें तो संसार भर में लगभग 7.8 करोड़ शिशु यानी प्रत्येक 5 में से 3 शिशुओं को जन्म के बाद शुरुआती पहले घंटे में स्तनपान नहीं कराया जाता है, जो उन्हें मौत  रोगों के उच्च जोखिम की ओर ले जा सकता है

 

हालांकि हिंदुस्तान ने 2005-15 के एक दशक के भीतर कुछ प्रगति की है  जन्म के प्रथम घंटे में स्तनपान का आंकड़ा दोगुना हो गया है लेकिन राष्ट्र में सीजेरियन से पैदा होने वाले नवजात बच्चों के बीच स्तनपान की प्रक्रिया में बहुत ज्यादा कमी पाई गई फिर भी हिंदुस्तान में 44 प्रतिशत बच्चे इस अमृत समान दूध से वंचित रह जाते हैं
में साउथ-एशिया की क्षेत्रिय निदेशक डॉ पूनम खेत्रपाल सिंह ने बताया कि मां का पहला दूध मिलने से बच्चे में रोगों से लड़ने की क्षमता विकसित होती है उन्होंने बोला कि किसी भी मां को कम से कम 6 महीने तक अपने बच्चे को स्तनपान कराना चाहिए मां के दूध में इतनी ताकत होती है कि स्तनपान के दौरान बच्चे को अलावा खुराक की आवश्यकता नहीं होती है

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *