शरीर में होने वाले बदलावों को न करें अनदेखा, हो सकते है ये बड़े खतरे

स्टार एक्सप्रेस डिजिटल

डेस्क. कभी-कभी ऐसा होता है कि आप शरीर में होने वाले बदलावों पर ज्यादा ध्यान नहीं देते। धीरे-धीरे जब यही बदलाव आपको दर्द देने लगते हैं, तो फिर आप पैनिक हो जाते हैं। ब्रेस्ट कैंसर की बीमारी भी ऐसी ही हैं, जिसके लक्षणों को ज्यादातर महिलाएं नॉर्मल समझकर इसपर ज्यादा ध्यान नहीं देती। आज हम आपको बता रहे हैं, ब्रेस्ट कैंसर के ऐसे लक्षण जो बिल्कुल भी सामान्य नहीं है। इन लक्षणों को कभी भी इग्नोर न करें।

निप्पल डिस्चार्ज होना – निप्पल से किसी भी तरह का डिस्चार्ज होना सामान्य नहीं है। आमतौर पर ब्रेस्ट कैंसर के मामले में निप्पल से पीले, हरे या लाल रंग का लिक्विड डिस्चार्ज होता है। बच्चों को ब्रेस्ट फीडिंग कराने वाली महिलाओं के लिए यह आम बात है लेकिन अगर आप ब्रेस्ट फीडिंग नहीं कराने पर भी आपके निपल्स से किसी रंग का कोई लिक्विड निकलता है, तो यह आपके लिए बहुत ही हानिकारक है।

 

अंडरआर्म में गांठ होना – नहाते समय ब्रेस्ट को चेक करें कि क्या आपके अंडरआर्म या निपल्स के आसपास कोई गांठें हैं? अगर अंडरआर्म में गांठ होती है, तो इसकी स्तनों से संबंधित होने की संभावना बहुत ज़्यादा होती है। ब्रेस्ट के टिश्यू अंडरआर्म्स तक होते हैं। साथ ही, स्तन के कैंसर हाथों के नीचे मौजूद लिम्फ नोड्स से भी फैल सकते हैं।

 

ब्रेस्ट और निपल्स पास घाव – ब्रेस्ट या निपल्स के आसपास स्किन छूटना और घाव ना भर पाना भी एक संकेत है कि ब्रेस्ट कैंसर का खतरा बना हुआ है। खासतौर पर जब आपको स्किन पर इरीटेशन होने लगती है, तो आपको इसे सीरियसली लेना चाहिए।

 

ब्रेस्ट और निपल्स की शेप और साइज में अंतर आना – ब्रेस्ट और निपल्स की शेप या साइज में अंतर आना हमेशा सामान्य नहीं होता है, खासतौर पर जब इसकी कोई खास वजह न हो। ऐसा होने पर निपल्स की सेंसेशन बढ़ जाती है। दर्द होने पर ब्रेस्ट और निपल्स में सूजन भी आ जाती है।

 

ब्रेस्ट के अंदर मिल्क ग्लैंड का नजर आना – ब्रेस्ट के अंदर मौजूद दूध की ग्रंथियों का ऊपर साफ नजर आना भी एक बड़ा संकेत है। जब आपको निपल्स के आसपास मिल्क ग्लैंड के अलावा वाइट कलर का लिक्विड भी नजर आए, तो आपको डॉक्टर से सलाह जरूर लेनी चाहिए।

 

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button