Punjab Crisis: करतारपुर साहिब गुरुद्वारा जाने को लेकर पंजाब कांग्रेस में मतभेद

Punjab Crisis: मुख्यमंत्री चरणजीत सिंह चन्नी और उनकी कैबिनेट के मंत्रियों के साथ नवजोत सिंह सिद्धू को करतारपुर ना ले जाने को लेकर सिद्धू खेमा नाराज़ हो गया है।

स्टार एक्सप्रेस डिजिलल : पंजाब में अगले साल विधानसभा के चुनाव हैं, लेकिन पंजाब कांग्रेस में पिछले कई महीनों से चल रही सियासी खींचतान खत्म होने का नाम नहीं ले रही। अब पंजाब कांग्रेस में नया विवाद करतारपुर साहिब गुरुद्वारा जाने लेकर है। मुख्यमंत्री चरणजीत सिंह चन्नी और उनकी कैबिनेट के मंत्रियों के साथ नवजोत सिंह सिद्धू को करतारपुर ना ले जाने को लेकर सिद्धू खेमा नाराज़ हो गया है।

नवजोत सिंह सिद्धू के मीडिया सलाहकार सुरिंदर दल्ला ने उन सवालों को सही ठहराया है, जिसमें कहा जा रहा है कि पंजाब सरकार सिद्धू को इसलिए साथ नहीं ले जा रही, क्योंकि अगर वो जाते हैं तो सबका ध्यान उन्हीं पर रहता। विधायक वृंदारजीत पहरा ने कहा कि आज मुख्यमंत्री चरणजीत सिंह चन्नी के साथ तीन कैबिनेट मंत्री मनप्रीत बादल, राणा गुरजीत सिंह और विजयिंदर सिंगला और दो विधायक हरप्रताप अजनाला और मुझे अनुमति मिली है।

सिद्धु के करतारपूर नहीं जाने को लेकर पंजाब सरकार के कैबिनेट मंत्री विजेंयदर सिंगला ने बाताया कि भारत सरकार ने फेज मेनर में परमिशन दी है। कुछ लोगों को आज परमिशन मिली है, कुछ को कल और कुछ को परसों जाने की परमिशन मिली है। उन्होंने कहा, ‘’सबका मकसद दर्शन और अरदास करने का है। सभी को नतमस्तक होने का मौका मिला है। कोई पहले चला गया और कोई बाद में जाएगा। इससे फर्क नहीं पड़ता।’’

 

विजेंयदर सिंगला ने कहा, ‘’सिद्धु भी करतारपुर साहिब जाएंगे। सभी कैबिनट मंत्री, विधायकों को परमिशन फेज मैनर में मिली है। सांझ व भाईचारे की बात गुरू नानक साहिब ने की थी। इसमें क्रेडिट की कोई बात नहीं है। मैं पूरे परिवार के साथ आज फिर दूसरी बार करतारपुर साहिब दर्शन करने जा रहा हूं।

 

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button