अमित शाह ने की घोषणा बोले कल से फिर खुलेगा करतारपुर कॉरिडोर

स्टार एक्सप्रेस डिजिटल : केंद्र सरकार ने 17 नवंबर से करतापुर साहिब कॉरिडोर को फिर से खोलने का निर्णय लिया है। केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने ट्वीट कर इसकी जानकारी दी है। उन्होंने ट्वीट कर कहा, एक बड़ा फैसला लिया गया है, जिससे बड़ी संख्या में सिख तीर्थयात्रियों को लाभ होगा। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी सरकार ने कल यानी कि 17 नवंबर से करतारपुर साहिब कॉरिडोर को फिर से खोलने का फैसला किया है। ये निर्णय श्री गुरु नानक देव जी और हमारे सिख समुदाय के प्रति मोदी सरकार की अपार श्रद्धा को दर्शाता है।करतारपुर साहिब गुरुद्वारे (Kartarpur Sahib gurdwara) की तीर्थयात्रा मार्च 2020 में कोरोनावायरस महामारी (Coronavirus Pandemic) के कारण सस्पेंड कर दी गई थी। इससे पहले, पंजाब से भारतीय जनता पार्टी के नेताओं ने रविवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मुलाकात की और उनसे अनुरोध किया कि गुरुपर्व से पहले करतारपुर कॉरिडोर को पुन: खोला जाए। भाजपा की पंजाब इकाई के अध्यक्ष अश्विनी शर्मा ने से कहा कि राज्य के 11 नेताओं के प्रतिनिधिमंडल ने यहां प्रधानमंत्री मोदी से उनके आवास पर मुलाकात की और गुरु नानक देव जी के अनुयायियों की भावनाओं से उन्हें अवगत कराया।

पंजाब कांग्रेस अध्यक्ष नवजोत सिंह सिद्धू ने करतारपुर कॉरिडोर के खोलने जाने का स्वागत किया है। उन्होंने ट्वीट कर कहा, स्वागत योग्य कदम, अनंत संभावनाओं का कॉरिडोर फिर से खोला गया। नानक नाम लेने वालों के लिए अमूल्य उपहार। महान गुरु का कॉरिडोर सभी पर आशीर्वाद बरसाने के लिए सदा खुला रहे।

वहीं, पाकिस्तान ने मंगलवार को भारत से अपनी तरफ से करतारपुर कॉरिडोर फिर से खोलने और गुरु नानक देव की जयंती पर आयोजित समारोहों के लिए सिख तीर्थयात्रियों को पवित्र स्थल जाने की अनुमति देने की गुजारिश की थी। पाकिस्तान के विदेश कार्यालय ने कहा, भारत ने अभी तक अपनी तरफ से कॉरिडोर नहीं खोला है और तीर्थयात्रियों को करतारपुर साहिब की यात्रा की अनुमति नहीं दी है। इसने कहा, गुरु नानक देव की जयंती पर 17 से 26 नवंबर तक आयोजित समारोहों के लिए हम भारत और दुनिया भर से आने वाले श्रद्धालुओं की मेजबानी के लिए उत्सुक हैं। प्रधानमंत्री इमरान खान ने नौ नवंबर 2019 को गुरु नानक देव की 550 वीं जयंती की पूर्व संध्या पर करतारपुर कॉरिडोर का उद्घाटन किया था।

 

करतारपुर कॉरिडोर पाकिस्तान में करतारपुर साहिब गुरुद्वारे में जाने वाले भारत के तीर्थयात्रियों के लिए एक वीजा-मुक्त पहुंच प्रदान करता है। यह सिख धर्म के संस्थापक गुरु नानक देव के अंतिम विश्राम स्थल गुरुद्वारा करतारपुर साहिब को भारत में गुरदासपुर जिले में डेरा बाबा नानक मंदिर से जोड़ता है। गुरु नानक की जयंती के रूप में मनाया जाने वाला गुरु पर्व इस साल 19 नवंबर को मनाया जाएगा। गुरुद्वारा करतारपुर साहिब सिख धर्म के अनुयायियों के लिए सबसे पवित्र जगहों में से एक है। इसे फिर से खोलना पंजाब के लिए एक भावनात्मक मुद्दा है। इसलिए कांग्रेस और अकाली दल समेत सभी पार्टियां इसे फिर से खोलने की मांग कर रही हैं।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button