भाजपा और योगी के लिए 2002 जैसा टर्निंग पॉइंट होगा यूपी चुनाव, जानिए कैसे

स्टार एक्सप्रेस डिजिटल  : उत्तर प्रदेश के विधानसभा चुनावों को लेकर सत्ताधारी भाजपा पूरी तैयारी में जुटी है। एक तरफ यह चुनाव 2024 में भाजपा की केंद्र वापसी के लिहाज से अहम माना जा रहा है तो वहीं सीएम योगी आदित्यनाथ के राजनीतिक भविष्य के लिए भी यह बेहद अहम है। यह चुनाव भाजपा में वैकल्पिक नेतृत्व तैयार करने के लिए भी बेहद अहम है। एक तरफ यूपी चुनाव देश में राजनीति की आने वाली दिशा तय करेगा तो वहीं भाजपा के भीतर भी उठ रहे कई सवालों के जवाब उत्तर प्रदेश के नतीजों से मिल सकते हैं। 2022 में एक तरह से भाजपा के भीतर 2002 की स्थिति दोहराने वाली है। बात यह है कि 2002 में गुजरात विधानसभा के चुनावों ने मोदी के कद को बढ़ा दिया था और उनकी राष्ट्रीय राजनीति में एक तरह से एंट्री की शुरुआत हो चुकी थी।अब ठीक 20 साल बाद फिर से ऐसी ही स्थिति पैदा हुई है, जब योगी जीते तो वह यूपी के बाहर भी एक राष्ट्रीय नेता के तौर पर उभरते दिख सकते हैं। इसके साथ ही भाजपा में मोदी के बाद कौन के सवाल का जवाब भी आंशिक तौर पर मिल सकता है। दिल्ली में हुई भाजपा की राष्ट्रीय कार्यकारिणी बैठक में यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ ने राजनीतिक प्रस्ताव पेश किया था। यह पहला मौका था, जब राष्ट्रीय स्तर पर सीएम योगी को इस तरह से सम्मान मिला था। अब यदि वह जीत हासिल करते हैं तो फिर उनका कद जनता के बीच भी बढ़ता दिखेगा।

भाजपा कार्यकर्ताओं के बीच यूपी में अकसर ‘मोदी-योगी-जय श्री राम’ का नारा लगता दिखता है। साफ है कि मोदी के बाद यूपी में भाजपा के कार्यकर्ता योगी को ही देखते हैं, लेकिन इस चुनाव के नतीजे बता देंगे कि यह नारा कितना सही और गलत साबित होता है। कार्यकारिणी बैठक में योगी को प्रस्ताव पेश करने का मौका दिए जाने को लेकर भी वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने कहा था, इसमें गलत क्या है। सीएम योगी देश की सबसे ज्यादा आबादी वाले राज्य के मुख्यमंत्री हैं। वह अपने कामों के चलते लोकप्रिय भी हैं। इसलिए उन्हें यह मौका दिया गया था।’ उनके इस बयान से साफ संकेत दिया गया कि योगी आदित्यनाथ का कद अब यूपी से बाहर भी बढ़ रहा है।

2002 के मोदी और योगी की सबसे बड़ी समानता यह है कि तब मोदी के चेहरे पर पहली बार चुनाव लड़ा गया था क्योंकि उससे पहले उन्हें मिड टर्म में सीएम बनाया गया था। 2017 में भले ही योगी सीएम बने थे और 5 साल का कार्यकाल पूरा किया है, लेकिन तब राज्य में मुख्यमंत्री के तौर पर किसी का नाम तय नहीं था। ऐसे में यह पहला मौका है, जब उनके चेहरे पर चुनाव लड़ा जा रहा है। यदि इस बार जीत होती है तो इसका बड़ा श्रेय उन्हें भी मिलेगा और यह उनके कद को यूपी और देश की राजनीति में बढ़ाने वाला होगा।

गुजरात में 2002 और अब यूपी में 2022 के चुनावों में एक और समानता है। उस चुनाव में जीतने के बाद से ही पीएम नरेंद्र मोदी को राष्ट्रीय स्तर पर पहचान मिली और उन्हें भविष्य के राष्ट्रीय नेता के तौर पर देखा जाने लगा था। सीएम योगी का कद जिस तरह से बीते कुछ सालों में बढ़ा है, उससे उन्हें लेकर भी ऐसी ही उम्मीद लगाई जा रही है। यदि 2022 के चुनाव में वह भाजपा को जीत दिलाते हैं तो उन्हें भाजपा में राष्ट्रीय स्तर पर भविष्य के नेतृत्व के तौर पर भी देखा जा सकता है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button