अखिलेश ने अपमान किया पर काम बहुत किया बोले शिवपाल यादव

स्टार एक्सप्रेस डिजिटल  : उत्तर प्रदेश के आगामी विधानसभा चुनाव 2022 को लेकर आजमगढ़ में राजनीतिक पारा चरम पर है। शनिवार के दिन केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह और मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने आजमगढ़ में राज्य विश्वविद्यालय का शिलान्यास कर महाराजा सुहेलदेव के नाम पर रखने का एलान किया। साथ ही आजमगढ़ का नाम आर्यमगढ़ करने का संकेत देकर पूर्वांचल में राजनीतिक बढ़त बनाने की कोशिश की। तो वहीं प्रगतिशील समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष शिवपाल यादव परिवर्तन रथ यात्रा लेकर आजमगढ़ पहुंचे।आजमगढ़ जिले के दौरे पर पहुंचे प्रगतिशील समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय शिवपाल सिंह यादव ने भाजपा पर जमकर हमला बोला। शिवपाल यादव दो दिवसीय दौरे पर आजमगढ़ आए हैं। आजमगढ़ जिले से सामाजिक परिवर्तन यात्रा 14 नवम्बर को सुबह रेलवे स्टेशन से निकलकर भंवरनाथ मंदिर होते हुए कंधरापुर, कप्तानगंज होते हुए अतरौलिया में जनसभा को सम्बोधित करेंगे। 12 अक्टूबर से मथुरा से निकली यह यात्रा अब तक 65 जिलों का दौरा कर चुकी है। भाजपा पर निशाना साधते हुए शिवपाल सिंह यादव ने कहा कि चुनाव आ गया है और भाजपा के लोग जनता को भ्रमित करने का काम कर रही है। भाजपा जाति धर्म की राजनीति कर रही है. हिंदू-मुस्लिम के नाम पर राजनीति हो रही है।

13 नवम्बर को आजमगढ़ जिले में विश्वविद्यालय का शिलान्यास करने आए प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के बयान की जिले का नाम बदलकर आर्यमगढ़ कर देने के सवाल पर शिवपाल यादव ने कहा कि ऐसा करने पर जनता यह सरकार ही बदल देगी। जिले के पहचान के संकट के सवाल पर कहा कि यह जिला कैफी आजमी जैसी शख्सियत देने का काम किया है। पर भाजपा के लोग यहां के लोगों को कीड़े-मकोड़े समझ कर यहां के लोगों का अपमान कर रहे हैं।

पूर्वांचल एक्सप्रेस से जुड़े सवाल पर शिवपाल यादव ने कहा कि अखिलेश यादव ने अपमान भले किया पर प्रदेश में विकास का काम भी बहुत किया। पूर्वांचल एक्सप्रेस वे के निर्माण में 60 प्रतिशत जमीन सपा के कार्यकाल में ही अधिग्रहित की गई थी. इस सरकार ने कोई काम नहीं किया।

शिवपाल सिंह यादव ने सपा से गठबंधन के सवाल पर कहा कि उचित सम्मान व सीटें मिली तो सपा से समझौता होगा और विलय भी हो सकता है। 22 नवम्बर को सपा संरक्षक मुलायम सिंह यादव का जन्मदिन है और इस दिन सैफई में दंगल का आयोजन होगा। ऐसे में मुलायम सिंह यादव के जन्मदिन के दिन दोनों दलों में समझौता हो सकता है।

 

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button