इंटरनशनल नोएडा एयापोर्ट का पीएम मोदी 25 नवंबर को करेंगे शिलान्यास

स्टार एक्सप्रेस डिजिटल  : उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh)को जल्द ही एक और एयरपोर्ट मिलने जा रहा है और सबसे बड़े एयरपोर्ट, नोएडा इंटरनेशनल एयरपोर्ट (noida international airport) का शिलान्यास 25 नवंबर प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी (PM Narendra Modi) करेंगे। इस कार्यक्रम में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के अलावा यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ भी मौजूद रहेंगे। इस एयरपोर्ट को बनाने में करीब 10056 करोड़ रुपये की लागत आएगी और ये 2024 तक बनकर तैयार हो जाएगा। फिलहाल राज्य की जनता इस एयरपोर्ट का इंतजार पिछले 25 सालों से कर रही थी और अब जाकर इसका इंतजार खत्म हुआ है।एयरपोर्ट के शिलान्यास के मौके पर प्रधानमंत्री कार्यक्रम स्थल पर एक जनसभा को भी संबोधित करेंगे और प्रधानमंत्री का कार्यक्रम तय होते ही पुलिस, प्रशासन और यमुना प्राधिकरण सक्रिय हो गए हैं। नोएडा इंटरनेशनल एयरपोर्ट के शिलान्यास का लंबे समय से इंतजार किया जा रहा था। अब पीएमओ ने इसकी तारीख तय कर दी है। लेकिन आधिकारिक तौर पर निमंत्रण पत्र जारी नहीं किया गया है। पहले भी कई बार एयरपोर्ट के शिलान्यास की तारीख को लेकर अटकलें लगाई जा रही थी. लेकिन वो निराधार साबित हुई। लेकिन अब प्रधानमंत्री कार्यालय द्वारा एयरपोर्ट के शिलान्यास के लिए 25 नवंबर की तारीख तय की गई है। लिहाजा अब यूपी सरकार इसकी तैयारी में जुट गई है। बताया जा रहा है कि कार्यक्रम में केंद्र और राज्य सरकार के कई मंत्री शामिल होंगे।

ये एयरपोर्ट करीब तीन साल में बनकर तैयार होगा। इस एयरपोर्ट को तैयार करने वाली कंपनी डेवलपर कंपनी ज्यूरिख एयरपोर्ट इंटरनेशनल के साथ करार किया गया है और इसके तहत 29 सितंबर, 2024 तक एयरपोर्ट का काम पूरा हो जाएगा। वहीं कंपनी को चालीस साल के लिए एयरपोर्ट संचालित करने का लाइसेंस दिया गया है।

इस एयरपोर्ट के बन जाने के बाद यूपी में विकास तेजी से होगा और यात्री सेवाओं की शुरुआत में नोएडा एयरपोर्ट से सालाना एक करोड़ बीस लाख लोग सफर कर सकेंगे। वहीं राज्य सरकार को अपने संचालन के सातवें साल से एयरपोर्ट से राजस्व मिलना शुरू होगा। वहीं एयरपोर्ट में यूपी सरकार के साथ ही नोएडा, ग्रेटर नोएडा और यमुना प्राधिकरण की भी इसमें हिस्सेदारी होगी।

एयरपोर्ट के पहले चरण के निर्माण पर 10 हजार 56 करोड़ रुपये खर्च होंगे और इसमें 5,730 करोड़ रुपये विकास पर खर्च किए जाएंगे। जबकि 4,326 करोड़ रुपये भूमि अधिग्रहण पर खर्च किए जाएंगे। इसके साथ ही पहले चरण में दो रनवे, टर्मिनल बिल्डिंग का निर्माण किया जाएगा और बाद में अन्य रनवे को विकसित किया जाएगा।

असल में जेवर अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे का इंतजार अब 25 साल बाद खत्म होने जा रहा है। असल में इस के लिए प्रस्ताव पूर्व की बीजेपी सरकार में रखा गया था और तब राज्य के सीएम राजनाथ सिंह थे। वहीं इसके बाद राज्य में एसपी सरकार ने इस हवाई अड्डे को जेवर से आगरा शिफ्ट करने की कोशिश की थी।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button