48 जिलों को देंगे 75 करोड़ रुपए : सीएम योगी

स्टार एक्सप्रेस डिजिटल  : यूपी में बाढ़ और बारिश से प्रभावित किसानों को सरकार ने बड़ी राहत दी है। सरकार अभी तक बारिश से नुकसान झेल रहे 8,27,451 किसानों को अभी तक दो अरब 82 करोड़ दो लाख 57858 रुपये दे चुकी है। झांसी, सिद्धार्थनगर, गोरखपुर, देवरिया, बहराइच, अलीगढ़, गाजीपुर, मऊ समेत 48 जिलों के लिए 74. 52 करोड़ रुपये से ज्यादा की एक और किस्त जारी कर दी है।राज्य सरकार प्रदेश के अन्‍नदाता किसानों को हर तरह से राहत देने का काम कर रही है। पिछले दिनों बाढ़ व भारी बारिश से किसानों की फसलों को काफी नुकसान पहुंचा था। इसके बाद सरकार ने फसल नुकसान का आंकलन कर किसानों के लिए राहत पैकेज जारी किया गया। सरकार ने शुरुआत में 4,77,581 किसानों को कुल 1,59,28,97,496 रुपये (लगभग 160 करोड़ रुपये) जारी किए थे। सर्वेक्षण के बाद चिह्नित शेष 1,39,863 किसानों को कृषि निवेश अनुदान के वितरण के लिए 48,20,57,668 रुपये जारी किए गए थे।

राहत आयक्त की वेबसाइट पर तीन नवबर तक 8,27,451 प्रभावित किसानों के लिए 2,82,02,57,858 रुपये की मांग की गई। इसके पहले 48 जिलों 617444 लाख किसानों को 207 करोड़ रुपये से अधिक की धनराशि जारी की जा चुकी है। ऐसे में सरकार ने 74.52 करोड़ रुपये से अधिक की एक अन्य किस्त भी तीन नवंबर को जारी कर दी। शासन ने सभी जिलाधिकारियों को धनराशि जारी करने के साथ ही जल्द ही इसके वितरण की व्यवस्था को सुनिश्चित करने के निर्देश दिए हैं।

सितंबर और अक्तूबर में हुई मूसलाधार बारिश व बाढ़ से करीब 44 जिलों के किसानों की फसल को काफी नुकसान हुआ था। इसके बाद मुख्‍यमंत्री ने पीडि़त किसानों को तुरंत राहत पहुंचाने के निर्देश अधिकारियों को दिए थे। सरकार ने नुकसान की भरपाई के लिए किसानों को उचित मुआवजा देने का ऐलान किया था। सरकार ने 6 लाख से अधिक किसानों को मुआवजा देने का काम किया है।

यह मुआवजा राशि जिला कोषागार से सीधे किसानों के बैंक खाते (डीबीटी) में ट्रांसफर की जा रही है। सरकार राज्य आपदा राहत कोष (एसडीआरएफ) से किसानों को वित्तीय सहायता प्रदान कर रही है। मुख्‍यमंत्री योगी आदित्यनाथ के निर्देश के बाद बाढ़ प्रभावित जिलों में नुकसान के आकलन की प्रक्रिया तेज कर दी गई है। पूर्वांचल जिले के किसान सबसे ज्यादा प्रभावित हुए थे।

 

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button