केंद्रीय मंत्री अठावले के बोल, कहा-समीर वानखेड़े दलित हैं इसलिए उसके साथ गलत हो रहा, एंकर ने कहा-आप सरकार में हैं तो मदद क्यों नहीं करते?

स्टार एक्सप्रेस डिजिटल : एनसीबी के जोनल डायरेक्टर समीर वानखेड़े को लेकर विवाद गहराता ही जा रहा है। महाराष्ट्र सरकार के मंत्री और एनसीपी नेता नवाब मलिक रोज उनके खिलाफ खुलासे पर खुलासे किए जा रहे हैं। इसे लेकर केंद्रीय मंत्री रामदास अठावले ने कहा कि समीर वानखेड़े दलित हैं, इसलिए उनके साथ गलत हो रहा है।एक निजी चैनल पर चल रहे एक डिबेट में रामदास अठावले ने समीर वानखेड़े को लेकर एनसीपी पर हमला भी बोला। अठावले ने कहा- वो दलित समाज से हैं। उनके पिताजी का नाम ज्ञानदेव वानखेड़े है। उनके ऊपर आरोप लगाया जा रहा है कि उनके पिताजी का नाम दाऊद है, दाऊद तो पाकिस्तान में है। ये दाऊद इधर कैसे आ सकता है।

अठावले में आगे कहा कि लेकिन ये बात सच है कि उनके पिताजी की शादी एक मुस्लिम कम्यूनिटी की महिला के साथ हुई थी। तो उनको जानबुझ कर बदनाम करने की कोशिश हो रही है। उन्होंने आगे समीर वानखेड़े का समर्थन करते हुए कहा कि वो बहुत एक्टिव अधिकारी हैं, दलित समाज से पढ़ाई करके वो इतने ऊपर, ऊंचे पद पर पहुंचे हैं। उनका सपोर्ट करना मेरी जिम्मेदारी है।

उन्होंने कहा कि उनकी पार्टी इस मामले पर समीर वानखेड़े के साथ खड़ी है। इसके बाद एंकर अमन चोपड़ा ने कहा कि आप सरकार में हैं तो मदद क्यों नहीं करते। इससे पहले रामदास अठावले ने रविवार को एक प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान कहा था कि शाहरुख खान, आर्यन खान को नशामुक्ति केंद्र भेज दें। एक महीने में आर्यन सही हो जाएंगे।।

समीर वानखेड़े नारकोटिक कंट्रोल ब्यूरो की मुंबई इकाई के जोनल डायरेक्टर हैं। वह मुंबई क्रूज ड्रग्स मामले में एनसीबी की जांच का नेतृत्व कर रहे हैं, जिसमें बॉलीवुड सुपरस्टार शाहरुख खान के बेटे आर्यन को 3 अक्टूबर को गिरफ्तार किया गया था।

जांच शुरू होने के बाद से, राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी के नेता नवाब मलिक इनपर लगातर आरोप लगा रहे हैं। उन्होंने समीर पर आरोप लगाया है कि क्रूज पर एनसीबी की छापेमारी नकली थी और समीर वानखेड़े ने मालदीव की यात्रा के दौरान बॉलीवुड सितारों से पैसे वसूले थे। इससे पहले नवाब मलिक के दामाद समीर खान को एनसीबी ने ड्रग्स के एक मामले में गिरफ्तार किया था। बाद में उन्हें जमानत मिल गई थी।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button