यूपी चुनाव 2022 : राजा भैया ने अखिलेश यादव संग गठबंधन से जुड़े सवाल का दिया जवाब, कहा-100 सीटों पर लड़ेंगे चुनाव

स्टार एक्सप्रेस डिजिटल : उत्तर प्रदेश में 2022 में होने वाले विधानसभा चुनाव के तहत जनसत्ता दल लोकतांत्रिक पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष व पूर्व मंत्री रघुराज प्रताप सिंह उर्फ राजा भैया दो दिवसीय यात्रा पर निकले हैं। उनकी यह जन सेवा संकल्प यात्रा लखनऊ से शुरू होकर आगरा और नोएडा तक जाएगी। मंगलवार को राजा भैया आगरा पहुंचे। इस दौरान उन्होंने अपनी पार्टी के कार्यकर्ताओं और पदाधिकारियों से मुलाकात की।100 सीटों पर लड़ेंगे चुनाव: आगामी विधानसभा चुनाव को लेकर एक न्यूज चैनल से बात करते हुए राजा भैया ने कहा कि हमारी पार्टी ने राज्यभर में अभी 100 सीटों को चिन्हित किया है। यह संख्या अभी और बढ़ भी सकती है। वहीं समाजवादी पार्टी या किसी और दल के साथ गठबंधन को लेकर उन्होंने कहा कि, अभी उनकी किसी से भी बात नहीं हुई है।

गठबंधन के लिए पार्टी हित होगी प्राथमिकता: यूपी चुनाव के लिए समाजवादी पार्टी तमाम छोटे दलों से गठबंधन कर रही है। ऐसे में कयास लगाए जा रहे हैं कि सपा और जनसत्ता दल लोकतांत्रिक पार्टी के बीच भी गठबंधन हो सकता है। इसपर राजा भैया ने कहा कि, हमारी पार्टी की किसी दल से कोई बात नहीं हुई है। अगर गठबंधन को लेकर कोई संकेत आता है तो पार्टी के पदाधिकारियों द्वारा चर्चा कर पार्टी हित में फैसला लिया जाएगा।

राजा भैया ने इस बात के भी संकेत दिए कि उन्हें किसी पार्टी से कोई परहेज नहीं है, आने वाले दिनों में किसी भी दल के साथ गठबंधन हो सकता है। 2018 में यूपी की 10 राज्यसभा सीटों के लिए हुए चुनाव के दौरान वोटिंग को लेकर राजा भैया और सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव के रिश्तों में दरार आ गई थी। ऐसे में अब राजा भैया ने संकेत दिए हैं कि अगर पार्टी हित में रहा तो वो सपा के साथ भी गठबंधन कर सकते हैं।

पूर्वांचल में राजा भैया की अलग पहचान: यूपी में पूर्वांचल की राजनीति में रघुराज प्रताप सिंह उर्फ राजा भैया की अलग पहचान है, खासकर क्षत्रिय राजनीति में उनका बोलबाला है। 1993 के बाद से वह लगातार प्रतापगढ़ की कुंडा सीट से विधानसभा का चुनाव जीत रहे हैं। 2017 के विधानसभा चुनाव में मोदी लहर में भी राजा भैया ने भाजपा के उम्मीदवार को पटखनी दे दी थी। इस चुनाव में उन्हें 136597 वोट मिले थे, जबकि बीजेपी उम्मीदवार जानकी शरण को 32960 वोटों पर संतोष करना पड़ा था।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button