WhatsApp का यूजर्स को बड़ा झटका, Ban किए 20 लाख से ज्यादा लोगों के अकाउंट, जानिए क्यों

भारत में WhatsApp Ban: फेसबुक के स्वामित्व वाले व्हाट्सऐप ने अब नए आईटी नियम (New IT Rules) का अनुपालन शुरू कर दिया है। इसी के मद्देनजर इस महीने कंपनी ने 20 लाख से अधिक भारतीय अकाउंट को बैन कर दिया है। कंपनी को अगस्त में 420 शिकायतों से जुड़ी रिपोर्ट मिली, जिस पर कार्रवाई करते हुए उसने यह कदम उठाया। व्हाट्सऐप ने अपनी अनुपालन रिपोर्ट में यह जानकारी दी है कि व्हाट्सऐप ने भारत में 16 जून से 31 जुलाई तक केवल 46 दिनों के भीतर 3,027,000 खातों को बैन कर दिया था।

वहीं सोशल मीडिया कंपनी फेसबुक ने अगस्त माह के दौरान नियमों के 10 उल्लंघन करने की कैटेगरी में 3.17 करोड़ कंटेंट पर कार्रवाई की। व्हाट्सऐप ने अपनी ताजा रिपोर्ट में बताया कि उसने अगस्त महीने के दौरान 20,70,000 भारतीय खातों पर रोक लगाई है।

व्हट्सऐप ने इससे पहले कहा था कि जिन खातों पर रोक लगाई गई उनमें से 95 प्रतिशत से अधिक खातों पर रोक उनके द्वारा Bulk Messages का अनाधिकृत इस्तेमाल किये जाने के कारण लगाई गई। वैश्विक स्तर पर व्हट्स ऐप अपने मंच के दुरुपयोग पर औसतन हर महीने 80 लाख खातों पर रोक लगाता है। WhatsApp ने कहा कि उसे भारत में उपयोगकर्ताओं से दो तरीकों से शिकायतें मिलीं। पहला व्हाट्सऐप की सेवा की शर्तों के उल्लंघन के संबंध में भारत में व्हाट्सऐप के शिकायत अधिकारी को भेजे गए ई-मेल के माध्यम से, या व्हाट्सऐप खातों के बारे में प्रश्न, सहायता केंद्र में प्रकाशित और दूसरा डाक के माध्यम से भारत शिकायत अधिकारी को भेजे गए मेल के माध्यम से है।

इसके अलावा फेसबुक ने शुक्रवार को जारी अपनी अनुपालन रिपोर्ट में बताया कि उसने अगस्त 2021 में 3.17 करोड़ कंटेंट पर कार्रवाई की है। वही इंस्ट्राग्राम ने इस दौरान नौ अलग-अलग श्रेणियों में उसके मंच पर डाली गई 22 लाख कंटेंट को हटाया या कार्रवाई की। फेसबुक ने बताया कि उसे 1-31 अगस्त के बीच अपने भारतीय शिकायत तंत्र के माध्यम से 904 उपयोगकर्ता रिपोर्ट प्राप्त की। इसमें से उसने 754 मामलों का निपटारा कर दिया गया। कंपनी ने रिपोर्ट में कहा कि इन तीन करोड़ से अधिक कंटेंट में स्पैम 2.9 करोड़, हिंसक 26 लाख, adult nudity and sexual activity 20 लाख,  hate speech 242,000 सहित अन्य मुद्दों से जुड़ा कंटेंट शामिल है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button