पूर्व विधायक रविदास मेहरोत्रा के घर की होगी कुर्की, जानिए पूरा मामला

विधायक रविदास मेहरोत्रा

स्टार एक्सप्रेस डिजिटल : हसनगंज कोतवाली में दर्ज मुकदमे में समन के बाद भी कोर्ट में नहीं हुए हाजिर। रविदास मेहरोत्रा अक्सर सार्वजनिक कार्यक्रमों में नजर आते हैं लेकिन पुलिस उन्हें गिरफ्तार नहीं कर पाती। हाल में ही सपा के प्रदर्शन के दौरान भी उनका एक वीडियो वायरल हुआ था जिसमें पार्टी के पदाधिकारी उन्हें ढकेलते दिख रहे थे।

लखनऊ- हसनगंज पुलिस ने शनिवार को पूर्व विधायक रविदास मेहरोत्रा के घर पर कुर्की की नोटिस चस्पा की। इस दौरान मुनादी पिटवाते हुए पुलिस ने पूर्व विधायक को हाजिर होने के लिए कहा। तय सीमा में अगर वह हाजिर नहीं होते हैं तो पुलिस रविदास मेहारोत्रा की संपत्ति कुर्क करेगी।

 

ख्यालीगंज कैसरबाग निवासी रविदास मेहरोत्रा पुलिस को घर पर नहीं मिले। इंस्पेक्टर हसनगंज यशकांत सिंह ने बताया कि वर्ष 1979 में आरोपित ने एक डॉक्टर की क्लीनिक में तोड़फोड़ की थी। पीड़ित ने हसनगंज कोतवाली में तब एफआइआर दर्ज कराई थी। कोर्ट की ओर से कई बार समन भेजा गया, लेकिन आरोपित हाजिर नहीं हुआ।

 

पुल‍िस ने कई बार उनके आवास पर दबिश दी, लेकिन गिरफ्तारी नहीं हो सकी। विवेचक की अर्जी पर कोर्ट ने पूर्व विधायक के खिलाफ कुर्की का आदेश दिया था। रविदास मेहरोत्रा अक्सर सार्वजनिक कार्यक्रमों में नजर आते हैं, लेकिन पुलिस उन्हें गिरफ्तार नहीं कर पाती। हाल में ही सपा के प्रदर्शन के दौरान भी उनका एक वीडियो वायरल हुआ था, जिसमें पार्टी के पदाधिकारी उन्हें ढकेलते दिख रहे थे।

 

तुम मुझे कैद करो या मेरी जुवा काटो मेरे ख्यालों को बेड़ियां पहना सकते नहीं। 42 साल पुराने छात्र युवा आंदोलन प्रदर्शन के राजनैतिक मुकदमे में षड्यंत्र कर मुझे जेल भेजने का प्रयास किया जा रहा है। राजनैतिक विद्वेष एवं बदले की भावना से 42 साल पुराने मुकदमे में गैर जमानती वारंट करा कर राजनीतिक षड्यंत्र के तहत आज भारी पुलिस बल मेरे घर आया। हम जेल से दमन से जुल्म से तानाशाही से डरने वाले नहीं हैं। हम हमेशा असहाय पीड़ित शोषित गरीब जनता पर होने वाले हर अन्याय के खिलाफ संघर्षों में उनके साथ रहे हैं। आंदोलन के फर्जी मुकदमों में जेल भेज कर सरकार हमें जनता से दूर करना चाहती है।

 

जन मुद्दों को लेकर सरकार के खिलाफ हमारा संघर्ष निरंतर जारी रहेगा। फर्जी मुकदमों में जेल भेजने से हम डरने वाले नहीं हैं। इन मुकदमों में ना कोई कोई गवाह है ना मुकदमा लिखाने वाला रह गया है। प्रदेश सरकार के कानून मंत्री जो कुछ वोटों से मुझसे चुनाव जीते थे के इशारे पर राजनैतिक विद्वेष के तहत मुकदमे में गिरफ्तार कर जेल भेजने की साजिश हो रही है। हम हर जुल्म सह करके भी जुल्म के खिलाफ संघर्ष करेंगे तुम मुकदमे लिखो हम क्रांति लिखेंगे। -रविदास मेहरोत्रा पूर्व कैबिनेट मंत्री/ पूर्व विधायक लखनऊ मध्य विधानसभा क्षेत्र

 

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button