सपा ने की बड़ी तैयारी आजम खां की भरपाई करने के लिए, इन मुस्लिम नेताओं को देगे बड़ी जिम्मेदारी


स्टार एक्सप्रेस डिजिटल : एक साल के भीतर बीएसपी और कांग्रेस से आए बड़े मुस्लिम नेता मुस्लिम नेतृत्व मजबूत करेंगे। क्योंकि समाजवादी पार्टी फायरब्रांड नेता आजम खां इस समय जेल सजा काट रहे है साथ ही खराब स्वास्थ के कारण निष्क्रिय रहते है। वही विधानसभा चुनावी समर मे असदुद्दीन ओवैसी ने विपक्षी राजनीतिक पार्टियों मे सनसनी मची हुई है। जिसका तोड़ तलाशने के लिए सभी पार्टियां अपनी अपनी जुगत भिड़ाने मे लगी हुई है।

 

 

 

 

महीने भर के अंदर समाजवादी पार्टी मे शामिल हुए बड़े मुस्लिम नेता सलीम इकबाल शेरवानी जो पांच बार सांसद रहे चुके है। पूर्व प्रधानमंत्री स्वर्गीय राजीव गांधी उनके बहुत अच्छे मित्र थे। वरिष्ठ कांग्रेस नेता बाबरी मस्जिद टूटने के बाद समाजवादी पार्टी मे शामिल हो गए थे। लेकिन मुलायम सिंह यादव के भतीजे धर्मेंद्र यादव को लोकसभा टिकट दिए जाने से नाराज होकर फिर से अपनी पुरानी पार्टी कांग्रेस मे लोकसभा चुनाव 2009 में वापसी की।

 

 

 

 

मुसलमानों को बड़ा संदेश देते हुए मार्च में हुई किसाना महापंचायत अलीगढ़ मे कई सभाओं मे अखिलेश यादव के साथ मंच साझा करते हुए नजर आए।

 

 

 

समाजवादी पार्टी ने गाजीपुर के मोहम्मदाबाद से बसपा के पूर्व विधायक सिबगतुल्लाह अंसारी और उनके बेटे को सपा मे शामिल किया इसी क्रम बसपा सांसद अफजल अंसारी के साथ-साथ (अब पूर्व-बसपा विधायक) मुख्तार अंसारी भी सपा के हिस्सा हैं। इनका गाजीपुर और मऊ के पूर्वांचल के जिलों और आसपास के क्षेत्रों में मुसलमानों पर काफी दबदबा कायम है।

 

 

 

अब तक सपा में शामिल हुए मुसलमान समुदाय मे दबदबा रखने वाले बड़े नेता अपने-अपने जिलों मे मजबूत असर है। इसी मे सीतापुर से पूर्व सांसद कैसर जहान का नाम भी इसी कड़ी मे आता है। समाजवादी पार्टी को दूसरी राजनीतिक पार्टियों से आए बड़े मुस्लिम नेताओं से विधानसभा 2022 के चुनाव मे बहुत उम्मीदें है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button