यमुना किनारे रोड पर महाराणा प्रताप की प्रतिमा लगाने का दलित समुदाय ने जताया विरोध, जानिए क्या है पूरा मामला

स्टार एक्सप्रेस डिजिटल.
 
 
आगरा(इज़हार अहमद)। बसपा शासनकाल में बनाई गई डॉ. आंबेडकर सेतु के निकट निर्धारित स्थान पर डॉक्टर भीमराव आंबेडकर की प्रतिमा लगाने को लेकर आजाद समाज पार्टी ने मोर्चा खोल दिया है। नगर निगम परिसर में कार्यकर्ताओं ने जमकर नारेबाजी की और प्रतिमा स्थापित कराने के लिए ज्ञापन दिया।
उल्लेखनीय है कि आगरा शहर और एत्माद्दौला को जोड़ने के लिए बसपा शासनकाल में माया सरकार ने डॉ आंबेडकर सेतु का निर्माण कराया था। आंबेडकर सेतु के निकट ही एक प्रतिमा स्थल पर प्रशासन द्वारा महाराणा प्रताप की प्रतिमा लगाए जाने को लेकर दलित समुदाय में खासा विरोध दिखाई दे रहा है। बुधवार को नगर निगम परिसर में ज्ञापन देने पहुंचे आजाद समाज पार्टी के पदाधिकारियों ने जमकर नारेबाजी की और नगर निगम प्रशासन पर दोहरे मापदंड प्रयोग किए जाने के आरोप लगाए।
आजाद समाज पार्टी के मंडल प्रभारी महेश चंद्रा और मंडल अध्यक्ष नदीम नूर ने संयुक्त रूप से बताया कि जब अंबेडकर सेतु के निकट प्रतिमा स्थल निर्धारित किया गया है। वहां डॉ. आंबेडकर की प्रतिमा को स्थापित किया जाना चाहिए था लेकिन नगर निगम प्रशासन ने अपनी हठधर्मिता का परिचय देते हुए उस स्थान पर महाराणा प्रताप की प्रतिमा स्थापित करा दिया। इससे दलित समुदाय में रोष व्याप्त है।
मंडल अध्यक्ष नदीम नूर का कहना है कि नगर निगम प्रशासन या शासन द्वारा जो भी निर्धारित स्थान जिस महापुरुष की प्रतिमा के लिए निर्धारित किया जाता है वहां उसी की प्रतिमा लगनी चाहिए। जिला अध्यक्ष सतीश संगम ने बताया कि नगर आयुक्त को ज्ञापन दिया गया है। नगर आयुक्त को संबोधित ज्ञापन को चीफ इंजीनियर एके गुप्ता को सौंपा गया, जिसमें डेंगू, मलेरिया जैसी घातक बीमारियों से बचने के लिए सफाई कराने का भी आग्रह किया गया है।
इस दौरान अमरेंद्र वर्मा, शशांक बौद्ध, राजू अंसारी, सौरभ चित्तौड़, अनिल कर्दम, आकाश त्रिवेदी, रिंकू बौद्ध, सोनू भारती, रंजीत कुमार, विजय अंबेडकर, रवि सागर, संदीप आजाद, शशि कपूर आदि कार्यकर्ता उपस्थित रहे।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button