Xiaomi लाया बिंदास चश्मा, फोटो खींचने के साथ देंगे कॉल का जवाब

स्टार एक्सप्रेस डिजिटल : Xiaomi ने प्रॉडक्ट्स की रेंज को बढ़ाते हुए अपने पहले Smart Glasses को लॉन्च कर दिया है। शाओमी ने स्मार्ट ग्लासेस को अचानक लॉन्च किया है और इसके बारे में पहले से कोई जानकारी नहीं दी गई थी। शाओमी स्मार्ट ग्लासेज अभी चीन में लॉन्च हुए हैं। माइक्रो एलईडी ऑप्टिकल वेवगाइड टेक्नॉलजी से लैस ये स्मार्ट ग्लास फोन कॉल और नैविगेशन जैसे कई शानदार फीचर के साथ आते हैं।

 

 

 

कंपनी ने अभी इनकी कीमत का खुलासा नहीं किया है। भारत समेत दुनिया के बाकी देशों में इनकी एंट्री कब होगी, इस बारे में अभी पक्के तौर पर कुछ कहा नहीं जा सकता है। फिलहाल आइए डीटेल में शाओमी स्मार्ट ग्लासेज के फीचर और फंक्शन्स के बारे में। शाओमी के स्मार्ट ग्लासेज में बेसिक नोटिफिकेशन और कॉल डिस्प्ले के अलावा कई और जबर्दस्त फीचर दिए गए हैं।

 

 

 

इनमें आपको फोटोग्राफी, नैविगेशन, टेलिप्रॉम्प्टर के अलावा रियल-टाइम टेक्स्ट और फोटो ट्रांसलेशन का भी फीचर मिलता है। फोटो क्लिक करने और रियल-टाइम में टेक्स्ट ट्रांसलेट करने के लिए इन स्मार्ट ग्लासेज में 5 मेगापिक्सल का कैमरा लगा है। स्मार्ट ग्लासेज में दिए गए जरूरी नोटिफिकेशन, फोन कॉल, नैविगेशन और फोटो ट्रांसलेशन को Xiaomi AI असिस्टेंट के जरिए ऐक्सेस किया जा सकता है। शाओमी के स्मार्ट ग्लासेज में कनेक्टिविटी के लिए वाई-फाई और ब्लूटूथ का ऑप्शन दिया गया है। ये ग्लासेज ऐंड्रॉयड ओएस पर काम करते हैं और इनमें कंपनी टचपैड भी ऑफर कर रही है।

 

 

 

शाओमी स्मार्ट ग्लासेज में कंपनी ने माइक्रो एलईडी वेवगाइड टेक्नॉलजी का इस्तेमाल किया है। इस टेक्नॉलजी की मदद से ग्लासेस के वजन को कम करने के साथ ही डिजाइन स्पेस को भी कम रखने में कंपनी को आसानी हुई। यह इस टेक्नॉलजी का ही कमाल है कि ये स्मार्ट ग्लास दिखने में नॉर्मल ग्लासेज जैसे लगते हैं। इन स्मार्ट ग्लासेज को बनाने में कंपनी ने 497 कंपोनेंट्स का इस्तेमाल किया है। इनमें कम्यूनिकेशन मॉड्यूल्स के साथ मिनिएचर सेंसर भी शामिल हैं।

 

 

 

शाओमी का दावा है कि इन ग्लासेज के डिस्प्ले में चावल के दाने के बरारबर का डिस्प्ले चिप दिया गया है। ग्लासेज का डिस्प्ले मोनोक्रोम है और इनकी पीक ब्राइटनेस करीब 20 लाख निट्स तक है। ग्लासेज में इस्तेमाल हुई ऑप्टिकल वेवगाइड टेक्नॉलजी ऑप्टिकल वेवगाइड लेंस के माइक्रोस्कोपिक ग्रेटिंग स्ट्रक्चर से यूजर की आंखों में लाइट बीम ट्रांसमिट करती है। शाओमी ने बताया कि लेंस में अंदर की तरफ भी ग्रेटिंग स्ट्रक्चर दिया गया है, जो सुरक्षित तरीके से लाइट को आंखों तक पहुंचने देता है ताकि यूजर को पूरी इमेज दिखे।

 

 

 

 

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button