Breaking News

17 दिसंबर को गंभीर चक्रवात की संभावना, फिर से मछुआरों के लिए जानमाल खतरा

आंध्र प्रदेश के काकीनाड़ा  ओंगोल एरिया में 17 दिसंबर को गंभीर चक्रवात की संभावना के चलते इंडियन तटरक्षक ने अपने जवानों को सतर्क कर दिया है सुरक्षा बल की तरफ से समुद्र में गए मछुआरों के जानमाल की सुरक्षा के लिए जरुरी तरीका प्रारम्भ कर दिए हैं

एक आधिकारिक विज्ञप्ति के मुताबिक लोकल मौसम विभाग ने गहरे दबाव के गंभीर चक्रवात के रूप में तब्दील होने का पूर्वानुमान लगाया है विज्ञप्ति में बताया गया है कि आंध्र प्रदेश तमिलनाडु के लिए जरूरत पड़ने पर किसी भी तरह की सहायता के लिए नौकाओं  हवाई जहाज को तैयार रखा गया है मौसम विभाग के अनुसार चेन्नई तट से लगभग 900 किलोमीटर दूर बंगाल की खाड़ी में गहन दबाव का एरिया बन गया है  इसके सशक्त होकर चक्रवात में तब्दील होने तथा अगले 24 घंटे के दौरान उत्तरी तमिलनाडु तथा आंध्र प्रदेश के तटीय क्षेत्रों में टकराने की सम्भावना है, वहीं छत्तीसगढ़ एवं ओड़िशा में भी बारिश होने की आसार है

तटरक्षक बल ने समुद्र में मछली पकड़ने गए मछुआरों तक जानकारी पहुंचाने के लिए भी जरुरी प्रबंध किए हैं, मछुआरों की नौकाओं को सुरक्षित वापस तट तक लाने के लिए सुरक्षा बल की तरफ से दो नौकाओं को समुद्र में भेज दिया गया है आपकी जानकारी के लिए बताते चलें कि इससे पहले भी तितली  गाज़ा नामक चक्रवात ओडिशा  आंध्र प्रदेश के कई इलाकों में तबाही मचा चुके हैं

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *