Breaking News

राफेल पर गवर्नमेंट ने सुप्रीम न्यायालय में गलत जानकारी दी

राफेल मामले पर कांग्रेस पार्टी के नेता मल्लिकार्जुन खड़गे ने गवर्नमेंट पर हमला किया है. खड़गे ने बोला कि गवर्नमेंट ने सुप्रीम न्यायालय में गलत जानकारी दी है. न्यायालय में झूठ बोलने के लिए मोदी गवर्नमेंट माफी मांगे. खड़गे ने बोला कि हम कैग से आदालत में जमा की गई रिपोर्ट के बारे में पूछेंगे. खड़गे ने आगे बोला कि पीएसी को कैग की रिपोर्ट क्यों नहीं दिखाई गई. सुप्रीम न्यायालय कोई जांच एजेंसी नहीं है. खड़गे ने मांग की है कि मामले की जांच जेपीसी से कराई जाए.

बता दें कि राफेल सौदे पर लगातार विपक्ष के आरोपों का सामना कर रही मोदी गवर्नमेंट को शुक्रवार को उच्चतम कोर्ट से राहत मिली है. कोर्ट ने 36 राफेल लड़ाकू विमानों की खरीद को लेकर फ्रांस के साथ हुए सौदे की जांच न्यायालय की निगरानी में कराने की मांग वाली याचिकाओं को खारिज कर दिया है.

ममाले पर सुनवाई करते हुए कोर्ट ने बोला कि प्रक्रिया में विशेष कमी नहीं रही है  केंद्र के 36 विमान खरीदने के निर्णय पर सवाल उठाना सही नहीं है. कोर्ट का कहना है कि विमान की क्षमता में कोई कमी नहीं है. उच्चतम कोर्ट ने कहा, ‘हम पूरी तरह से संतुष्ट है कि राफेल सौदे की प्रक्रिया में कोई कमी नहीं रही. राष्ट्र को सामरिक रूप से सक्षम रहना आवश्यक है.

न्यायालय के लिए अपीलकर्ता प्राधिकारी के रूप में बैठना  सभी पहलुओं की जांच करना संभव नहीं है. हमें ऐसा कोई सबूत नहीं मिला है जिससे साबित होता हो कि इस सौदे में किसी के व्यापारिक हित साधे गए हों.‘ मामले की सुनवाई मुख्य न्यायधीश रंजन गोगोई की अध्यक्षता वाली तीन सदस्यीय पीठ ने की. न्यायमूर्ती रंजन गोगोई ने कहा, ‘ऑफसेट पार्टनर व्यक्तियों की धारणा का चयन करने में हस्तक्षेप करने का कोई कारण नहीं है.

यह रक्षा खरीद के संवेदनशील मुद्दे में पूछताछ का कारण नहीं हो सकता है. हम 126 एयरक्राफ्ट खरीदने के लिए गवर्नमेंट को मजबूर नहीं कर सकते हैं  न्यायालय के लिए इस मामले के हर पहलू की जांच करने के लिए उचित नहीं है. मूल्य निर्धारण विवरण की तुलना करना न्यायालय का कार्य नहीं है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *