Breaking News

सायना नेहवाल ने पीवी सिंधु को ओलिंपिक मेडल जीतने पर नहीं दी बधाई, कहा-हम ज्यादा बात नही करते

स्टार एक्सप्रेस डिजिटल  : भारत की स्टार बैडमिंटन खिलाड़ी पीवी सिंधु ने सोमवार को कहा कि टोक्यो ओलिंपिक में कांस्य पदक जीतने के बाद मुख्य राष्ट्रीय कोच पुलेला गोपीचंद ने उन्हें बधाई संदेश दिया जबकि सीनियर खिलाड़ी सायना नेहवाल से उन्हें बधाई नहीं मिली। गत विश्व चैंपियन सिंधू रविवार को दो व्यक्तिगत ओलिंपिक पदक जीतने वाली दूसरी भारतीय और देश ही पहली महिला खिलाड़ी बनीं।

 

 

 

 

सिंधु ने इससे पहले रियो खेलों में रजत पदक जीता था। यह पूछने पर कि क्या पदक जीतने के बाद गोपीचंद और सायना ने उनसे बात की, सिंधु ने वर्चुअल प्रेस कांफ्रेंस में कहा, बेशक गोपी सर ने मुझे बधाई दी। मैंने अब तक सोशल मीडिया नहीं देखा है। मैं धीरे-धीरे सभी को जवाब दे रही हूं। विस्तार से पूछे जाने पर सिंधू ने कहाए गोपी सर ने मुझे संदेश भेजा। साइना ने नहीं। हम काफी बात नहीं करते।

 

 

 

 

 

पिछले साल कोविड-19 महामारी के बीच सिंधु तीन महीने की ट्रेनिंग के लिए लंदन गई थी जिसके बाद उनके और गोपीचंद के बीच मतभेद की खबरें सामने आई थी। सिंधु ने बाद में कहा था कि वह रिकवरी और न्यूट्रिशन प्रोग्राम के लिए ब्रिटेन गई थी। लेकिन वहां से आने के बाद भी सिंधु ने गोपीचंद अकादमी की जगह पार्क तेइ.सांग के मार्गदर्शन में गचीबाउली इंडोर स्टेडियम में ट्रेनिंग का फैसला किया था। इससे दोनों के बीच मतभेद की अफवाहों को बल मिला था। ओलिंपिक से पहले भी सिंधु ने कहा था कि उनकी तैयारी अच्छी चल रही है और उन्हें गोपीचंद की कमी नहीं खल रही है। बाद में गोपीचंद टोक्यो ओलिंपिक के लिए गए भी नहीं थे। उन्होंने अपनी जगह पुरुषों के एकल कोच अगस सेंटोसो के लिए छोड़ दी थी।

 

 

 

 

 

गोपीचंद ने हालांकि सिंधु के साथ अपने रिश्ते को लेकर काई बात नहीं की है। वहीं लंदन ओलिंपिक में कांस्य पदक जीतने वाली सायना नेहवाल की कोर्ट पर सिंधु के साथ जोरदार प्रतिद्वंदिता रही है। सायना ने खुद भी दोनों के बीच राइवलरी की बात मानी है। सायना और सिंधु के बीच 2017 के बाद से तनातनी की खबरें भी हैं। तब सायना बेंगलुरु में भारत के पूर्व कोच विमल कुमार के साथ काम करने के बाद फिर से गोपीचंद की एकेडमी में लौट आई थीं। सायना टोक्यो ओलिंपिक के लिए क्वालिफाई नहीं कर पाई थीं। कोरोना के चलते कई टूर्नामेंट रद्द हो गए थे ऐसे में सायना के हाथ से ओलिंपिक खेलने का मौका निकल गया था। वह रियो में खेली थीं लेकिन तब शुरुआत राउंड में ही बाहर हो गई थी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *