Breaking News

समुद्र में व्यापक बदलावों का मिला इशारा

पूर्वी अंटार्कटिका के तट के आठवें हिस्से में फैले ग्लेशियरों के एक समूह से बीते दशक में बर्फ पिघलनी प्रारम्भ हो गई है, जिससे समुद्र में व्यापक बदलावों का इशारा मिला है नासा के वैज्ञानिकों ने इस बात का पता लगाया है पूर्वी अंटार्कटिका के पास समुद्री जल स्तर में वृद्धि के माध्यम से दुनियाभर की तट-रेखाओं को नयी आकृति प्रदान करने की क्षमता है, जबकि वैज्ञानिक लंबे समय से इसे पश्चिमी अंटार्कटिका की तुलना में स्थिर मानते आ रहे थे

मैरीलैंड में नासा के गोडार्ड स्पेस फ्लाइट सेंटर की ग्लेशियोलॉजिस्ट कैथरिन वॉकर के नेतृत्व में पाए गए तथ्यों से खुलासा हुआ कि टोटेन के पश्चिम में स्थित चार ग्लेशियरों के एक समूह में समुद्र स्तर को बढ़ाने के लिए पर्याप्त बर्फ है, जिसमें से कम से कम 11 फीट बर्फ पिघल भी चुकी है टोटेन पूर्वी अंटार्कटिका का सबसे बड़ा ग्लेशियर है इसके अतिरिक्त पूर्व के दूर क्षेत्रों में कुछ छोटे ग्लेशियर भी पिघल रहे हैं

टोटेन के पश्चिम में स्थित इन चार ग्लेशियरों की ऊंचाई 2008 के बाद से करीब नौ फीट तक कम हो गई है 2008 से पहले इन ग्लेशियरों की ऊंचाई में कोई खास परिवर्तन नहीं आया था यह ग्लेशियर विनसेन्नेस बे नाम के इलाके में आते हैं

वॉकर ने सोमवार को एक बयान में कहा, “इसके पीछे का कारण हवाओं  विलेक्स लैंड और विनसेन्नेस बे में समुद्री जल द्वारा पहुंचाई गई गर्मी में वृद्धि के परिणामस्वरूप समुद्री बर्फ में बदलाव हो सकता है ”

उन्होंने कहा, “अगर गर्म जल बहुत ज्यादा दूर तक चला जाता है तो वह गहरी से गहरी बर्फ में पहुंच सकता है इससे ग्लेशियर के पिघलने में तेजी आ सकती है लेकिन अभी हमें यह नहीं पता चल सका है कि यह कितना जल्दी होगा “

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *