Breaking News

राहुल गांधी ने केंद्र से किया सवाल, कहा-क्या भारत सरकार ने खरीद लिया Pegasus? क्या अपनों के खिलाफ ही कर रही इस्तेमाल?

 

स्टार एक्सप्रेस डिजिटल  : कांग्रेस नेता राहुल गांधी एक बार फिर केंद्र सरकार पर हमलावर हो गए हैं। उन्होंने इस बार केंद्र पर सवालों की बौछार कर दी है। राहुल ने कहा हम सिर्फ एक सवाल पूछना चाहते हैं। क्या भारत सरकार ने पेगासस को खरीद लिया है? हां या नहीं, क्या सरकार ने अपने ही लोगों के खिलाफ पेगासस हथियार का इस्तेमाल किया? हमें सरकार द्वारा कहा गया है कि सदन में पेगासस पर कोई चर्चा नहीं होगी।

 

 

 

 

 

 

कांग्रेस समेत 14 विपक्षी दलों के नेताओं ने पेगासस जासूसी मामले और अन्य मुद्दों पर संसद के मौजूदा मानसून सत्र के दौरान सरकार को घेरने की रणनीति बनाई थी। राहुल गांधी के मुताबिक केंद्र ने अब सदन में पेगासस के मुद्दे को उठाने से मना कर दिया है, तो उन्होंने सरकार पर कड़ा हमला बोला। उन्होंने कहा कि उन्हें बस ये जानना है कि क्या सरकार ने अपने ही लोगों के खिलाफ पेगासस हथियार का इस्तेमाल किया?

 

 

 

 

 

राहुल गांधी ने कहा कि वह देश के युवाओं से जानना चाहता हैं कि नरेंद्र मोदी ने आपके फोन में एक हथियार भेजा है। इस हथियार का इस्तेमाल मेरे खिलाफ, सुप्रीम कोर्ट, कई नेताओं, प्रेस के लोगों और कार्यकर्ताओं के खिलाफ किया गया है। तो इस पर सदन में चर्चा क्यों नहीं होनी चाहिए?

 

 

 

 

 

 

पेगासस मुद्दे को लेकर विपक्ष मानसून सत्र के पहले दिन से ही सरकार को घेरने की ताक में है। ऐसे में हंगामे के बीच दो हफ्ते में कई बार सदन की कार्यवाही को स्थगित करना पड़ा है। इसके बाद भी विपक्ष लगातार सदन की कार्यवाही के दौरान हंगामे कर रहा है। आज भी पेगासस प्रोजेक्ट रिपोर्ट पर चर्चा की मांग को लेकर विपक्षी सांसदों ने राज्‍यसभा में भी जमकर हंगामा किया। इस दौरान सदन की कार्यवाही दोपहर 2 बजे तक के लिए स्‍थगित कर दी गई है।

 

 

 

 

 

 

पेगासस जासूसी कांड को लेकर सदन में जमकर नारेबाजी की गई। स्‍पीकर की कुर्सी के पास पेपर भी उछाले गए। लोकसभा और राज्यसभा की कार्यवाही शुरू होते ही हंगामे की भेंट चढ़ रही हैं। इस बीच राहुल गांधी भी लगातार सरकार पर निशाना साधने का काम कर रहे हैं। इससे पहले उन्होंने कहा कि जब मित्रों का कर्ज माफ करते हो, तो देश के अन्नदाता का क्यूं नहीं? किसानों को कर्ज-मुक्त करना मोदी सरकार की प्राथमिकता नहीं है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *