Breaking News

ममता बनर्जी गवर्नमेंट के लिए नया सिरदर्द साबित हो सकता है ये दौरा

भाजपा की प्रस्तावित रथयात्रा के मुद्दे पर जारी गतिरोध अभी सुलझा भी नहीं है कि संघ प्रमुख मोहन भागवत का तीन दिवसीय पश्चिम बंगाल दौरा ममता बनर्जी गवर्नमेंट के लिए नया सिरदर्द साबित हो सकता है.राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) प्रमुख मोहन भागवत 11 दिसंबर से राज्य के तीन दिवसीय दौरे पर आएंगे. संघ के सूत्रों ने यहां इसकी जानकारी दी. सूत्रों ने बताया कि भागवत 10 दिसंबर को गुवाहाटी से सिलीगुड़ी पहुंचेंगे. वे वहां अगले दिन विभिन्न कार्यक्रमों में भाग लेने के बाद 12 दिसंबर को कोलकाता आएंगे.

संघ के एक नेता ने बताया कि सिलीगुड़ी में 11 दिसंबर को भागवत नगर एकत्रीकरण कार्यक्त्रस्म में भाग लेंगे. प्रातः काल साढ़े सात बजे होने वाले उक्त आयोजन में इलाके के तमाम कार्यकर्ता भी मौजूद रहेंगे. वहां एक्सरसाइज़ और प्रार्थना आयोजित की जाएगी. उसके बाद भागवत संघ के कार्यकर्ताओं को संबोधित करेंगे.

ध्यान रहे कि हाल के दिनों में उत्तर बंगाल में संघ की गतिविधियां तेज हुई हैं. संगठन ने इलाके में सैकड़ों युवाओं  बुद्धिजीवियों को भी अपने साथ जोड़ा है. खासकर असम से लगे अलीपुरदुआर के आदिवासी इलाकों में संघ के नेटवर्क की वजह से ही बीजेपी को अपने पांव मजबूती से जमाने में सहायता मिली है. इसके अतिरिक्त दक्षिण बंगाल के झारखंड से लगे इलाकों में भी हाल में संघ की सक्त्रिस्यता बहुत ज्यादा बढ़ी है. संघ नेतृत्व CM ममता बनर्जी की कथित तुष्टिकरण नीति के मुकाबले के लिए सीमावर्ती इलाके के हिंबदुओं को एकजुट करने का कोशिश कर रहा है.

मोहन भागवत के दौरे के बाद अगले महीने संघ के महासचिव सुरेश भैय्याजी जोशी भी एक मीटिंग में भाग लेने राज्य के दौरे पर आएंगे. संघ के एक नेता ने बताया कि संगठन के लिए बंगाल का खास महत्व है. संघ के संस्थापक डा केशव बलिराम हेडगेवार जब उ च्च एजुकेशन के लिए कोलकाता आए थे तो उनको बंगाल  एक बंगाली युवक से ही सामाजिक हित में कार्य करने की प्रेरणा मिली थी.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *