Breaking News

स्मृति ईरानी के संसदीय क्षेत्र के एक ही गांव में 20 की मौत

स्टार एक्सप्रेस डिजिटल  : अमेठी के कटरा राजा हिम्मत सिंह गांव की यह तस्वीर है जहां 7 मई को बूथ नंबर 118 के बूथ अध्यक्ष की मौत के बाद संवेदना जताने स्मृति ईरानी पहुंची थीं। इस दौरान वह कुछ गावों में गईं थी और वहां के हालात की जानकारी ली थी, हालांकि इस गांव में वह नहीं पहुंची थीं
उत्तर प्रदेश के ग्रामीण इलाकों में भी कोरोना भयावह रूप ले चुका है। कई गांव ऐसे हैं जहां एक ही महीने में 20 से 30 लोगों की जान चुकी है, पर वहां टेस्टिंग तक नहीं हो रही है। सर्दी जुकाम होता है और कुछ दिन में ही मरीज की जान चली जाती है। ऐसी डरावनी स्थिति केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी के संसदीय क्षेत्र के एक गांव में देखने को मिल रही है। अमेठी के हारीमऊ गांव में 20 लोगों की मौतों का मामला समाने आया है। ग्रामीणों का कहना है कि पिछले एक साल में इतनी मौतें नहीं हुईं जितनी एक महीने में हो गई हैं।

 

 

गांव का दौरा करने पर हारीमऊ गांव के लोगों ने जो कुछ बताया वो काफी चैंकाने वाला पहलू रहा। गांव के निवासी राजेंद्र कौशल कहते हैं कि, ये सच्चाई है 17-18 मौते हुई हैं। एक-एक घर से तीन-तीन लाशें निकली हैं। एंबुलेंस को फोन किया जाता है। आती है तो वो मरीज को उठाते तक नहीं। अगर घर वाले नहीं उठाते तो एंबुलेंस वापस चली जाती है। आशा बहुएं आकर दवा देकर चली जा रही हैं।

 

 

अमेठी का वह गांव जहां एक महीने में 20 मौतें हुई हैं। गांववालों का कहना है कि ऐसा मंजर उन्होंने पहली बार देखा है। स्वास्थ्य विभाग की टीम न तो टेस्टिंग के लिए आ रही है और न ही सैनेटाइजेशन कराया जा रहा है। वहीं इसी गांव के रहने वाले शहनवाज का कहना है, किस कारण मौत हुई है इसकी वजह नहीं पता। लेकिन स्वास्थ्य विभाग की टीम आकर दवा देकर चली जाती है। उनके अनुसार न कोई जांच किसी की हुई, न सेनेटाइजिंग हुई। लोग डरे हुए हैं, यहां पास में अस्पताल है टीम आई थी वहां दवा देकर चली गई।

 

 

आज तक एक साथ इतनी मौतें नहीं देखी
इधर 51 साल के महिपथ बताते हैं कि, मौत के कारणों का कोई पता नहीं चल सका है। मेरी इतनी उम्र में आजतक इतनी मौतें कभी नहीं हुई। पूरे एक साल में भी इतनी मौतें कभी नहीं हुई। जितनी इस महीने में हो चुकी हैं 18-20 मौतें। ग्राम प्रधान मोतीलाल का कहना है कि हमारे गांव में करीब 20 मौतें हुई हैं, किस वजह से हुई स्वास्थ्य विभाग की टीम आई लेकिन सही जानकारी नही जुटा पाई। टीम जो आई उसने न सैंपलिंग की न जांच, अस्पताल में दवा दिया और चलते बने।

 

 

इस पूरे मामले पर अमेठी के मुख्य चिकित्सा अधिकारी (CMO) आशुतोष दुबे का कहना है कि, वैक्सीनेशन के लिए ग्रामीणों को स्वास्थ्य केंद्र पर आना पड़ेगा। वैक्सीन का एक प्रोटोकॉल है वैक्सीन गांव में नहीं लगाई जा सकती है। पूरे गांव में छिड़काव कराया गया है। लक्षण युक्त व्याक्तियों की पहचान कर दवा दी गई है। सैंपलिंग कराई गई है।

 

 

केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी 7 मई को बिना प्रोटोकॉल के सलोन विधायक दल बहादुर कोरी के मौत की सूचना पर उनके घर पहुंची थीं। वहां से वो सीधे बिना किसी तय कार्यक्रम के जिला मुख्यालय स्थित सीएमओ कार्यालय पहुंच गईं थी। सीएमओ कार्यालय परिसर में संचालित कोविड कमांड सेंटर का जायजा लेने के बाद उन्होंने जिले में कोरोना से बचाव के लिए कार्य कर रही टीम-9 सदस्यों के साथ बैठक की थी। इसके बाद स्मृति अमेठी के कटरा राजा हिम्मत सिंह के बूथ नंबर 118 के बूथ अध्यक्ष जगदीश अग्रहरि की मौत पर उनके घर पहुंचकर शोक संवदेना व्यक्त करने पहुंची थीं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *