Breaking News

हनुमान जी दलित नही हैं अनुसूचित जनजाति के हैं: नंद कुमार साय

यूपी के CM योगी आदित्यनाथ के बताए जाने के बाद बयानबाजी जारी है मुख्यमंत्री योगी के बयान के बाद एसटी आयोग के अध्यक्ष नंद कुमार साय ने ईश्वरको अनुसूचित जनजाति का बताया है

उन्होंने बोला कि मुख्यमंत्री योगी ने उन्हें किस संदर्भ में दलित बोला है, उनकी परिभाषा को स्पष्ट नहीं कर सकते उन्होंने बोला कि जनजाति समाज में हनुमान, गिद्ध सब गोत्र होते है ईश्वर राम के साथ लड़ाई में जनजाति वर्ग के लोग उनके साथ थे उन्होंने बोला कि हनुमान जी दलित नही हैं अनुसूचित जनजाति के हैं

#लखनऊ : ईश्वर हनुमान जी पर CM के बयान के बाद अब अनुसूचित जनजाति आयोग अध्यक्ष नन्द कुमार साय का बयान- अनुसूचित जनजाति में हनुमान गोत्र होता है. हनुमान जी दलित नही हैं अनुसूचित जनजाति के हैं

एक मीटिंग में भाग लेने लखनऊ पहुंचे नंद कुमार साय ने गुरुवार (29 नवंबर) को बोला कि जनजातियों में हनुमान एक गोत्र होता है मसलन तिग्गा है तिग्गा कुड़ुक में है तिग्गा का मतलब बंदर होता है हमारे यहां कुछ जनजातियों में साक्षात हनुमान भी गोत्र है,  कई स्थान गिद्ध गोत्र है जिस दंडकारण्य में ईश्वर (राम) ने सेना संधान किया था, उसमें ये जनजाति वर्ग के लोग आते हैं, तो हनुमान दलित नहीं जनजाति के हैं ‘

आपको बता दें कि हाल ही में राजस्थान के अलवर के मालाखेड़ा में मुख्यमंत्री योगी ने प्रचार के दौरान हनुमान को दलित बताया था मालाखेड़ा में एक सभा को संबोधित करते हुए योगी आदित्यनाथ ने बजरंगबली को दलित, वनवासी, गिरवासी  वंचित करार दिया मुख्यमंत्री योगी ने बोला कि बजरंगबली एक ऐसे लोक देवता हैं, जो स्वयं वनवासी हैं, गिरवासी हैं, दलित हैं  वंचित हैं मुख्यमंत्री योगी के इस बयान के बाद ब्राह्मण समाज खासा नाराज है राजस्थान ब्राह्मण सभा ने मुख्यमंत्री योगी पर जाति में बांटने का आरोप लगाते हुए उन्हें कानूनी नोटिस भेजा है  c

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *