Thursday , April 22 2021
Breaking News

डिजिटल पेमेंट को बढ़ावा देने के लिए RBI ने लिया अहम फैसला, पेमेंट बैंक की लिमिट में किया ये बदलाव

ऑनलाइन पैसे ट्रांसफर करने के तीन मैन सोर्स NEFT, RTGS और IMPS हैं . इनमें से आज हम आपको NEFT और RTGS के बारे में बताने जा रहे हैं. इन दोनों तरीकों से पैसे को बेहद आसानी से ट्रांसफर किया जा सकता है. आज हम आपको बताएंगे कि ये क्या हैं और कैसे काम करते हैं. साथ ही ये भी बताएंगे कि इसके क्या फायदे हैं.

27 नवंबर 2014 को डिजिटल पेमेंट बैंक को लेकर जारी गाइडलाइन के मुताबिक पेमेंट बैंक्स को एक कस्टमर का अधिकतम 1 लाख रुपए ही रखने का अधिकार दिया गया था। इसी लिमिट को बढ़ाकर 2 लाख रुपया कर दिया गया है.

अगर आपके पास Ola Pay है, और आप किसी ऐसे शख्स के वॉलेट में पैसे भेज रहे हैं, जिसके पास Ola Pay नहीं, केवल GooglePay है, तो भी आप उसे 2 लाख रुपये तक ट्रांसफर कर सकते हैं। लेकिन इसके लिए फुल KYC अनिवार्य है।

पेमेंट बैंक्स सेविंग अकाउंट भी खोलते हैं। इनके कुछ उदाहरण हैं – पेटीएम पेमेंट बैंक, एयरटेल पेमेंट बैंक, इंडिया पोस्ट पेमेंट बैंक आदि। लेकिन इन बैंक्स को अभी लोन या एडवांस देने का अधिकार नहीं है।

रिजर्व बैंक ने एक और बड़ी राहत देते हुए Prepaid Payment Instruments (PPIs) यानी मोबाइल वॉलेट इंटरऑपरेबिलिटी के जरिए अब 2 लाख रुपये तक भेजने की छूट दी है। पहले ये लिमिट 1 लाख रुपये की थी।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *