Breaking News

ट्रैक्टर रैली के दौरान हुई हिंसा पर शुरू हुई सियासत, मायावती ने तोड़ी चुप्पी व कहा-” कृषि कानून वापस ले केंद्र सरकार”

कृषि कानूनों के खिलाफ आंदोलन कर रहे किसानों ने गणतंत्र दिवस के मौके पर देश की राजधानी दिल्ली में ट्रैक्टर रैली के दौरान जो हिंसा फैलाई और सड़कों से लेकर लालकिले तक कोहराम मचाया, उसकी चौतरफा निंदा के साथ ही सियासत भी शुरू हो गई है.

मायावती ने बुधवार सुबह ट्वीट कर कहा, “देश की राजधानी दिल्ली में कल गणतंत्र दिवस के दिन किसानों की हुई ट्रैक्टर रैली के दौरान जो कुछ भी हुआ, वह कतई भी नहीं होना चाहिए था. यह अति-दुर्भाग्यपूर्ण तथा केन्द्र की सरकार को भी इसे अति-गंभीरता से ज़रूर लेना चाहिए.”

मायावती ने इसके बाद अगले ट्वीट में कहा, “बसपा की केन्द्र सरकार से पुनः यह अपील है कि वह तीनों कृषि कानूनों को अविलम्ब वापिस लेकर किसानों के लम्बे अरसे से चल रहे आन्दोलन को खत्म करे ताकि आगे फिर से ऐसी कोई अनहोनी घटना कहीं भी न हो सके.”

समाजवादी पार्टी और बसपा शुरू से ही खुद को किसानों के साथ खड़ा दिखाते हुए तीनों कृषि कानूनों को रद्द करने की मांग कर रही है. अब गणतंत्र दिवस पर हुई हिंसा के बाद विपक्षी दलों ने केंद्र सरकार और बीजेपी के खिलाफ अपने तेवर कड़े कर दिए हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *