Breaking News

श्रीलंका के संसद में सांसदों ने क्यों खेला मिर्ची पाउडर का ऐसा खेल

श्रीलंकाई संसद में शुक्रवार को लगातार दूसरे दिन भी हंगामेदार स्थिति देखने को मिली जहां विरोधी सांसदों ने एक दूसरे पर मिर्ची पाउडर  फर्नीचर फेंके, जिसके बाद अध्यक्ष कारू जयसूर्या ने सदन के अंदर पुलिस बुला ली  सदन की कार्यवाही सोमवार तक स्थगित कर दी यह हंगामा अध्यक्ष द्वारा महिंदा राजपक्षे के विरूद्ध अविश्वास प्रस्ताव के बाद कोई पीएम या गवर्नमेंटनहीं होने की घोषणा के एक दिन बाद हुआ शुक्रवार की कार्यवाही विश्वास मत की प्रक्रिया को दोहराने के लिये थी जिसे गुरुवार को बाधित कर दिया गया था पिछले महीने एक विवादित कदम के तहत राजपक्षे को पीएम बनाने वाले राष्ट्रपति मैत्रीपाला सिरिसेना हटाए गए पीएम रानिल विक्रमसिंघे के साझेदारी के नेताओं के साथ वार्ता में बीती रात सदन में शक्ति परीक्षण पर सहमत हो गए थे

Image result for श्रीलंकाई संसद में सांसदों ने एक दूसरे के ऊपर फेंका मिर्ची पाउडर

अधिकारियों ने बोला कि राजपक्षे का समर्थन कर रहे सांसद अध्यक्ष के आसन पर बैठ गए, जिससे कार्यवाही में देर हुई उन्होंने जयसूर्या के विरूद्ध नारेबाजी भी की कोलंबो गजट की समाचार के मुताबिक राजपक्षे के कुछ वफादारों को विरोधियों  पुलिस पर मिर्ची पाउडर फेंकते भी देखा गयाकरीब 45 मिनट तक गतिरोध बरकरार रहने के बाद अध्यक्ष ने पुलिस को संसद के अंदर बुला लियाइस बीच सांसद अरूंदिका फर्नांडो ने अध्यक्ष की कुर्सी पर कब्जा जमा लिया  बाकी सांसदों ने उसे घेर लिया

एक वरिष्ठ राजनेता जैमिनी जयविक्रमा परेरा इस दौरान हुई धक्का मुक्की में घायल हो गएहंगामा कर रहे युनाइटेड पीपुल्स फ्रीडम अलायंस (यूपीएफए) सदस्यों ने विक्रमसिंघे की युनाइटेड नेशनल पार्टी (यूएनपी) के दो सांसदों की गिरफ्तारी की मांग की उनका आरोप था कि कल हुए बवाल के दौरान सांसद पलिथा थेवाराप्पेरूमा  रंजन रामनायके चाकू लेकर आए थे सदन में कल हुए हंगामे के दौरान यूपीएफए सांसद दिलम अमुनुगमा घायल हो गए थे

पुलिस ने शुक्रवार को जयसूर्या का हंगामा कर रहे सांसदों से बचाव किया जयसूर्या ने ध्वनिमत के आधार पर बोला कि राजपक्षे के विरूद्ध प्रस्ताव नाकाम रहा क्योंकि हंगामे की वजह से भौतिक रूप से मत विभाजन नहीं हो सका हंगामा कर रहे सांसदों ने पुलिस पर किताबें फेंकीं. जयसूर्या ने तत्काल बाद सदन की कार्यवाही को 19 नवंबर तक स्थगित कर दिया  पुलिस की घेराबंदी में वहां से निकल गए राष्ट्रपति सिरिसेना ने बोला कि वह किसी भी हालात में सदन का सत्रावसान नहीं करेंगेराष्ट्रपति ने ट्वीट किया, ‘‘मैं सभी सांसदों से अनुरोध करता हूं कि वे लोकतांत्रिक संसदीय परंपराओं के सिद्धांतों को हर समय बरकरार रखें मैं किसी भी हालात में संसद का सत्रावसान नहीं करूंगा ’ input : Bhasha

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *